मोहाली स्थित चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में छात्राओं के अश्लील वीडियो वायरल होने का मामला पुलिस की प्राथमिक जांच में पलट गया है । दरअसल, मोहाली के एसएसपी विवेकशील सोनी के अनुसार, प्राथमिक जांच में सामने आया है कि आरोपी लड़की ने सिर्फ अपना ही अश्लील वीडियो भेजा था । किसी और लड़की का कोई वीडियो नहीं बनाया गया है । अभी तक की जांच में हमें पता चला है कि आरोपी का सिर्फ एक ही वीडियो है । उसने किसी और का कोई अन्य वीडियो रिकॉर्ड नहीं किया है । इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और मोबाइल फोन को जब्त कर लिया गया है और फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा । हालांकि पूरे मामले की जांच जारी है ।

रोपड़ रेंज के डीआईजी गुरप्रीत भुल्लर ने कहा कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि एक छात्रा ने वीडियो बनाया था । एसएसपी मोहाली मामले की गहन जांच कर रहे है । दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा । छात्रों और उनके अभिभावकों से शांति बनाए रखने की अपील है ।

 

पूरे मामले में चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने भी बयान जारी किया –

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के अनुसार, अन्य छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो शूट करने की बात पूरी तरह से झूठी और निराधार है । किसी भी छात्र का कोई वीडियो आपत्तिजनक नहीं मिला, सिवाय एक लड़की द्वारा शूट किए गए एक निजी वीडियो के, जिसे उसके प्रेमी के साथ साझा किया गया था । वहीं अफवाहें हैं कि 7 लड़कियों ने आत्महत्या कर ली है जबकि सच्चाई यह है कि किसी भी लड़की ने ऐसा कोई कदम उठाने की कोशिश नहीं की है । घटना में किसी लड़की को अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया है ।

दरअसल, चंडीगढ़ स्थित मोहाली की नामी निजी यूनिवर्सिटी में शनिवार देर रात उस समय माहौल तनावपूर्ण हो गया, जब हॉस्टल में रही एक छात्रा ने अन्य छात्राओं के अश्लील वीडियो बनाकर शिमला में बैठे दोस्त के माध्यम से सोशल मीडिया पर वायरल करा दिए । जैसे ही छात्राओं को पता चला तो यूनिवर्सिटी में हड़कंप मच गया ।

जांच से पहले मिली जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा था कि छात्रा लंबे समय से अन्य छात्राओं की नहाते समय की वीडियो बना रही थी और शिमला के एक युवक को भेज रही थी । युवक ने यह वीडियो इंटरनेट मीडिया पर डाल दी । छात्राओं ने जब इंटरनेट मीडिया पर पर अपनी वीडियो देखी तो वह दंग रह गई थी । वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने के बाद आठ छात्राओं ने आत्महत्या का प्रयास किया था । छात्राओं को अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया था । वहीं, छात्राओं ने चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी प्रबंधन पर मामला दबाने का दवाब बनाने का आरोप लगाया था । छात्राओं का कहना है कि, उन्होंने इसकी शिकायत कालेज प्रबंधन से की, लेकिन कालेज प्रबंधन ने मामले में कुछ भी कार्रवाई नहीं की थी ।

प्रदर्शन के दौरान एक छात्रा को हार्ट अटैक और तीन छात्राओं की बिगड़ी ‌ तबीयत 

प्रदर्शन के दौरान एक छात्रा को हार्ट अटैक आ गया वहीं तीन छात्राओं की तबीयत बिगड़ गई । पूरी रात यूनिवर्सिटी में न्याय दो न्याय दो के नारे गूंजते रहे । दिन चढ़ते चढ़ते मामला सुर्खियों में छा गया । पुलिस ने मामले में एमबीए की एक छात्रा को गिरफ्तार कर लिया । इसके बाद सरकार से लेकर राज्य महिला आयोग तक एक्शन में आया और जांच की बात कही ।

इसके बाद एक वीडियो सामने आया जिसमें आरोपी छात्रा मान रही है कि उसने दोस्त के कहने पर यह वीडियो बनाए । वहीं जिस हॉस्टल में ये पूरा कांड हुआ, वह पहले बॉयज हॉस्टल था । इसे कुछ समय पहले ही गर्ल्स हॉस्टल में बदला गया था । पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन मनीषा गुलाटी ने कहा कि इस पूरे मामले की सात दिन में सच्चाई सामने लाई जाएगी । इसके साथ ही हॉस्टल की वार्डन से भी पूछताछ होगी ।

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वायरस वीडियो

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के वायरल वीडियो पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कही ये बात

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में एक लड़की ने कई छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड करके वायरल किए है । ये बेहद संगीन और शर्मनाक है । इसमें शामिल सभी दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी । पीड़ित बेटियां हिम्मत रखें । हम सब आपके साथ है । सभी संयम से काम ले ।

वहीं केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता सोम प्रकाश ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताया । उन्होंने कहा कि इस घटना में शामिल लोगों के खिलाफ पुलिस को गंभीर कार्रवाई करनी चाहिए ताकि ऐसी घटनाएं दोबारा न हों । पंजाब के स्कूल शिक्षा मंत्री एचएस बैंस ने विश्वविद्यालय के छात्रों से शांत रहने की अपील की है और उन्हें आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा ।

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी क्यों है खास ?

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी भारत की उन विख्यात यूनिवर्सिटी में से है जो अपने स्टूडेंट्स को प्रोफेशनल और शैक्षणिक प्रतिभा का अद्वितीय संयोजन प्रदान करती है । केवल दस वर्षों में ही, चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी (सीयू) ने खुद को भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज में से एक के रूप में स्थापित किया है । चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने क्यूएस एशिया रैंकिंग 2022 में एशिया की टॉप 1.7 फीसदी यूनिवर्सिटीज में अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज की है । चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद द्वारा प्रतिष्ठित A+ मान्यता प्राप्त करने वाले देश क 5% संस्थानों में से एक है ।

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी का टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर वह स्थान है जहां पर इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योरशिप को बढ़ावा दिया जाता है । टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर, अपना बिजनेस शुरू करने की इच्छा रखने वाले महत्वाकांक्षी लोगों को कोचिंग और वित्तीय सहायता प्रदान करने वाला एक अत्याधुनिक प्लेटफार्म है । चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स को शैक्षणिक चुनौतियों और विविधतापूर्ण संस्कृति से परिचित करवाकर सामाजिक रूप से जागरूक बनने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। यहां स्टूडेंट्स को अपनी पढ़ाई, सामाजिक जीवन, और करियर डेवलपमेंट का भार खुद संभालने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here