Portion of fresh and healthy Cucumbers (close-up shot); Shutterstock ID 381415354; Job (TFH, TOH, RD, BNB, CWM, CM): TOH

खीरा, बीमारियों में आपने सुना होगा या सामान्य रूप से भी सुना होगा कि खीरे का सेवन करने के लिए डॉक्टर जरूर कहते है‌ । पहली बात तो यह स्किन और पेट के लिए बहुत लाभकारी होता है । इसके हाइड्रेटिंग गुण पेट को ठंडा रखने का काम करते है । लेकिन आप इसका सेवन सर्दी जुकाम और बुखार में बिल्कुल ना करे । खीरे का सेवन करने से कौन-कौन सी बीमारियां कंट्रोल में रहती हैं इसके बारे में आज हम इस लेख में बताएंगे जो आपके बहुत काम आने वाले है । तो आइए जानते है इस बारे में विस्तार से –

खीरा

इन बीमारियों में फायदेमंद है खीरा 

  • अगर आपको पेशाब करते समय जलन महसूस होती है, तो मतलब आपके शरीर में पानी की कमी हो गई है । यह यूटीआई इंफेक्शन कम करने का काम करती है ।
  • डायबिटीज में भी यह बहुत फायदेमंद साबित होती है । ये ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला है, जो कि डायबिटीज पेशेंट के लिए बहुत लाभकारी साबित होता है । इसमें फाइबर और रफेज की मात्रा ज्यादा होती है जो मेटाबॉलिज्म को मजबूत करती ह है ।
  • हड्डियों से जुड़ी परेशानी में भी खीरा बहुत लाभकारी होता है । इसके एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते है, जो कि हड्डियों की समस्याओं को काफी हद तक कंट्रोल करने में मदद करते है ।
  • डायबिटीज में भी खीरा बहुत फायदेमंद साबित होती है । यह ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला है , जो कि डायबिटीज पेशेंट के लिए बहुत लाभकारी साबित होता है । इसमें फाइबर और रफेज की मात्रा ज्यादा होती है , जो मेटाबॉलिज्म को मजबूत करती है ।

खीरा

खीरा में 95% पानी होता है और यह उन्हें एक आदर्श हाइड्रेटिंग और ठंडा भोजन बनाता है । खीरे में एंटी-इंफ्लेमेटरी फ्लेवोनॉल होता है जिसे फिसेटिन कहा जाता है, जो आपके मस्तिष्क के स्वास्थ्य की देखभाल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । खीरा में लिग्नंस नामक पॉलीफेनोल्स होते हैं जो स्तन, गर्भाशय, डिम्बग्रंथि और प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते है । खीरा का अर्क अवांछित सूजन को कम करने में मदद करता है । यह प्रो-इंफ्लेमेटरी एंजाइम की गतिविधि को रोककर ऐसा करता है । कैलोरी में कम और फाइबर में उच्च होने के नाते, खीरा वजन घटाने और पाचन स्वास्थ्य दोनों के लिए आदर्श है ।

खीरा की खासियत

खीरा का सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है और खासकर गर्मियों के दौरान क्योंकि ये ज्यादातर पानी और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से बने होते हैं जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होते है । इसमें विटामिन के और मोलिब्डेनम के उत्कृष्ट स्रोत है । इसमें पैंटोथेनिक एसिड, तांबा, पोटेशियम , मैंगनीज, विटामिन सी , फास्फोरस, मैग्नीशियम , बायोटिन और विटामिन बी 1 में भी समृद्ध हैं । ककड़ी में सिलिका होता है, एक ट्रेस खनिज जो हमारे संयोजी ऊतकों को मजबूत करने में मदद करता है । इनमें एस्कॉर्बिक और कैफिक एसिड भी होते हैं जो पानी के नुकसान को रोकते हैं और इसलिए, खीरे को जलने और डर्मेटाइटिस के लिए शीर्ष पर लगाया जाता है ।

खीरा खाने के फायदे

खीरा निर्जलीकरण के लिए एक अच्छा स्रोत हो सकता है , विशेष रूप से गर्मी के महीनों के दौरान, क्योंकि यह ज्यादातर आवश्यक इलेक्ट्रोलाइट्स से भरा पानी और आईडी से बना होता है । पानी की खपत बढ़ाने के लिए खीरे को पानी में मिलाना एक शानदार तरीका है ।

खीरा में लिगन्स नामक पॉलीफेनोल्स होते हैं जो स्तन, गर्भाशय, अंडाशय और प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते है । उनके पास फाइटोन्यूट्रिएंट्स भी हैं जिन्हें कुकुर्बिटासिन कहा जाता है जिसमें कैंसर विरोधी गुण भी होते है ।

खीरा में फ्लेवोनॉइड होते हैं, जो प्रतिरोधक और टैनिन होते है । वे हमारे शरीर में घूमने वाले हानिकारक मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते है । मुक्त कणों के उन्मूलन से हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाने वाली किसी भी बीमारी के जोखिम कम करते हैं और इसलिए, हमें दर्द और परेशानी से राहत मिलती है ।

खीरा में पोटेशियम होता है जो रक्तचाप के स्तर को कम करने में मदद करता है । पोटेशियम का एक उचित संतुलन , दोनों कोशिकाओं के बाहर और अंदर, शरीर को ठीक से काम करने के लिए महत्वपूर्ण है । पोटेशियम, एक इलेक्ट्रोलाइट होने के नाते , अपने कार्यों को करने के लिए एक निश्चित एकाग्रता बनाए रखना रखता है  । इसमें तंत्रिका आवेग संचरण, मांसपेशियों के संकुचन और हृदय का काम करना को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए सोडियम के साथ तालमेल शामिल होता है ।

आयुर्वेद के सिद्धांतों के अनुसार , खीरा ‌ का सेवन पेट में अतिरिक्त गर्मी छोड़ने में मदद करता है जो कि सांसों की बदबू का प्राथमिक कारण है । खीरे के टुकड़े को अपने मुंह के ऊपर रखने से आपको बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया से छुटकारा पाने में मदद मिलती है ।

खीरा सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में समृद्ध है, जो पाचन के लिए आवश्यक हैं: पानी और फाइबर । आप अपने रस या सलाद में खीरे का इस्तमाल करके फाइबर की अपनी दैनिक आवश्यकता को पूरा कर सकते है । एसिड भाटा के तीव्र लक्षणों को दबाने के लिए खीरे आपकी मदद कर सकता है । खीरे की खाल में अघुलनशील फाइबर होता है जो आपके मल में भारी मात्रा में मिला जाता है और आपको बिना पचे भोजन को आसानी से निकालने में मदद करता है ।

खीरा का रस आपके शरीर में अतिरिक्त यूरिक एसिड के संचय के कारण होने वाली आमवाती स्थितियों को ठीक करने में मदद करता है । खीरे के रस के नियमित सेवन से गठिया और एक्जिमा को ठीक किया जा सकता है । फेफड़े या पेट की समस्या वाले लोगों के लिए खीरा फायदेमंद हो सकता है । यह मांसपेशियों के लचीलेपन को भी बढ़ावा देता है जबकि खीरे की मैग्नीशियम सामग्री उचित रक्त परिसंचरण सुनिश्चित करती है और आपकी नसों को भी आराम देती है ।

खीरा को अपने आहार में खीरे को शामिल करना कई तरह से फायदेमंद साबित हो सकता है । यह मधुमेह का प्रबंधन करने में मदद करता है , रक्तचाप को कम करता है, कब्ज को रोकता है , गुर्दे की पथरी के जोखिम को कम करता है , शरीर को स्वस्थ और कार्यशील रखता है और आपको एक उज्ज्वल और चमक प्रदान करता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here