आज का मॉडर्न टाइम हमारे लिए स्वास्थ्य संबंधित किसी भी चुनौतियों से कम नहीं है । इन चुनौतियों से लड़ने के लिए और इनको दूर करने के लिए हमें सेहतमंद भोजन का सेवन और रोजाना व्यायाम करना बहुत ही आवश्यक है । संतुलन आहार में कई तरीके के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं । और रोजाना एक्सरसाइज और व्यायाम करने से हमारा शरीर अच्छे से फंक्शन करता है और हमें स्वस्थ रहने में सहायता करता है । हालांकि कई पोषक तत्व की कमी से हमारे शरीर पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है और इसका समाधान एक स्वस्थ जीवन के लिए बहुत ही आवश्यक होता है । जैसे आयरन खून के लिए बहुत ही आवश्यक है जैसे ही कैल्शियम और जिंक इम्यूनिटी को बिल्ड करने में सहायक है । आयरन की कमी से एनीमिया रोग हो जाता है । इस स्थिति में व्यक्ति के शरीर में रेड ब्लड सेल्स का निर्माण होना बंद हो जाता है या सही से नहीं हो पाता है । आयरन की कमी के लक्षण थकान, चक्कर आना, जीभ में सूजन, पैरों में झुनझुनी, सिरदर्द, सांस लेने में तकलीफ, कमजोरी है । शरीर में खून की कमी महसूस होने पर तत्काल डॉक्टर से सलाह लेना बहुत जरूरी है । इसके साथ ही डाइट में आयरन रिच फूड्स चीजों को जरूर शामिल करना भी बहुत ही आवश्यक है ।

 

आयरन की कमी से होने रोग और इसका योगदान –

आयरन की कमी यानी एनीमिया इसके कमी से शरीर में स्‍वस्‍थ लाल रक्‍त कोशिकाएं के बहुत कम होने का सामान्‍य कारण है । बता दे कि गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी के कारण बच्‍चे के विकास में बाधा आती है । शरीर को स्वस्थ और फिट बनाए रखने के लिए पौष्टिक आहार का सेवन करना सबसे आवश्यक माना जाता है । पौष्टिक आहार का मतलब, ऐसी चीजों का सेवन जिससे शरीर के लिए आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट्स की आसानी से पूर्ति की जा सके हो । जब हम स्वस्थ शरीर की बात करते है , तो इसके लिए कुछ पोषक तत्वों की सबसे अधिक आवश्यकता होती है जैसे आयरन उनमें से एक है । आयरन वह मूल घटक है , जो शरीर को हीमोग्लोबिन बनाने में मदद करता है । हीमोग्लोबिन, लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है जो फेफड़ों से ऑक्सीजन को पूरे शरीर के ऊतकों और अंगों तक पहुंचाता है । यदि शरीर में आयरन की कमी हो जाए तो ऊतकों तक ऑक्सीजन पहुंचने में दिक्कत हो सकती है , जो सेहत के लिए गंभीर समस्याओं का कारण बनती है । शरीर में आयरन की कमी का पता लगाने के लिए आमतौर पर खून की जांच कराने की सलाह दी जाती है, पर क्या आप जानते हैं कि शरीर में दिखने वाले कुछ संकेतों के आधार पर भी आसानी से इसका पता लगाया जा सकता है ? आइए हाथों और पैरों में आयरन की कमी के कारण दिखने वाले संकेतों के बारे में जानते है, जिनके आधार पर समस्या का आसानी से निदान किया जा सकता है ?

 

आयरन की कमी के सामान्य लक्षण

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक आयरन की कमी के सामान्य लक्षणों के अलावा कुछ लोगों को हाथों और पैरों में भी इसके संकेत महसूस हो सकते है । जिन लोगों के शरीर में आयरन की कमी होती है उनके हाथ और पैर अक्सर ठंडे बने रहते है । यदि आपको भी लगातार इस तरह की समस्या का अनुभव होता है , तो इस बारे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके समस्या का निदान कराना आवश्यक हो जाता है ।

 

आयरन की कमी का कारण 

कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक ऐसे कई कारण है , जिनके चलत शरीर में इस बेहद आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट्स की कमी हो सकती है । रक्त में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओं के भीतर आयरन होता है , कई स्थितियों में शरीर से खून ज्यादा निकल जाने के कारण आयरन की कमी हो सकती है । माहवारी के कारण महिलाओं को आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का खतरा अधिक होता है । इसके अलावा भोजन में पौष्टिकता और आयरन वाली चीजों की कमी के कारण भी इस समस्या का खतरा बढ़ जाता है ।

 

आयरन की कमी दूर करने के उपाय –

  • कुछ हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो खजूर आयरन का मुख्य स्त्रोत है । इसके सेवन से शरीर में खून की कमी दूर होती है । इसके लिए रोजाना खजूर का सेवन जरूर करना चाहिए । हालांकि, अत्यधिक मात्रा में खजूर का सेवन करने से कब्ज की शिकायत हो सकती है । इसके लिए डॉक्टर से सलाह लेकर उचित मात्रा में खजूर का सेवन करना चाहिए । इसके लिए रात में सोने से पहले पानी में भिगोकर 2-4 खजूर रख दे । अगली सुबह खजूर का सेवन करना चाहिए ।
  • तिल का सेवन करने से इसमे कॉपर, आयरन, जिंक, प्रोटीन, मैग्नीशियम और कैल्शियम जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते है , जो सेहत के लिए फायदेमंद होते है । तिल की तासीर गर्म होती है । इसके लिए सीमित मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए । आयरन की कमी को दूर करने के लिए डाइट में तिल जरूर शामिल करना चाहिए ।
  • आयरन की कमी को दूर करने के लिए रोजाना किशमिश का सेवन करना चाहिए । इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है । इसके सेवन से एनीमिया रोग में बहुत जल्द आराम मिलता है । आप सुबह-शाम दोनों समय किशमिश का सेवन कर सकते है । आप चाहे तो किशमिश भिगोकर भी सेवन कर सकते है ।
  • अध्ययनों से पता चलता है कि यदि हम अपने आहार को सही कर लें तो शरीर में आयरन की कमी को आसानी से पूरा किया जा सकता है । इसके लिए उन चीजों का अधिक से अधिक सेवन किया जाना चाहिए जिसमें आयरन की मात्रा अधिक होती है । रेड मीट और पोल्ट्री, समुद्री भोजन, बीन्स, गहरी हरी पत्तेदार सब्जियां, जैसे पालक, सूखे मेवे, जैसे किशमिश और खुबानी आदि को आयरन का अच्छा स्रोत माना जाता है । आहार में इन चीजों को जरूर शामिल किया जाना चाहिए ।
  • खासकर महिलाओ में ज्यादातर ब्लड की कमी के कारण सिरदर्द, चक्कर आना, थकान रहती है । इसलिए उन्हें आयरन प्रचुर मात्रा में लेना चाहिए । इसके लिए हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए और इन सभी सब्जियों को लोहे की कढ़ाई में बनाएं , ताकि बॉडी में आयरन का एब्जॉर्प्शन ज्यादा हो ।
  • शरीर में आयरन की कमी होने पर आप हर्दी पत्तेदार सब्जियों, साग, पालक आदि का खूब सेवन करना चाहिए । इनमें आयरन का भंडार होता है । इसके अलावा, रेड मीट, ड्राई फ्रूट्स, नट्स, आयरन-फोर्टिफाइड अनाज, अंडा, बींस, सीफूड्स, कद्दू के बीज, किशमिश आदि का भरपूर सेवन प्रतिदिन करना चाहिए ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here