हाल में ही उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव कोरोना पॉजिटिव हो गई है। जिसकी जानकारी उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से दी थी। उन्होंने बताया की मैंने कोविड टेस्ट कराया जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव है। मैं पूरी तरह से वैक्सिनेटेड हूं और कोई भी लक्षण अभी दिखाई नही दे रहा है, हाल फिलहाल में मुझसे मिलने वाले लोगो से अनुरोध है की वे अपना टेस्ट जल्द कराए।
इसके बाद गुरुवार को सूबे के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ ने फोन कर उनके परिवार का हालचाल जाना और उनके परिवार के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय ने आज सुबह दी। मुख्यमंत्री के ऑफिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बताया कि ‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव जी की धर्मपत्नी पूर्व सांसद श्रीमती डिंपल यादव जी व उनकी पुत्री के कोरोना पॉजिटिव होने के समाचार का संज्ञान लेते हुए श्री यादव से दूरभाष पर वार्ता की मुख्यमंत्री जी ने श्री अखिलेश यादव जी से उनके परिवार के स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए परिवार के सदस्यों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।

अखिलेश यादव ने सार्वजनिक तौर पर कोविड टीके का किया था विरोध।

बता दे की अखिलेश यादव भारत के टीके को मोदी जी का टीका बता कर इसका विरोध किया था और कहा था की मैं इस टीके को तभी लगवायेगे जब मोदी जी की फोटो सर्टिफिकेट से हटेगा। और उन्होंने कहा की मुझे कोविड हुआ था, और स्टडी कहती है की मुझे फिर से कोरोना नही होगा। यदि सरकार सर्टिफिकेट पर राष्ट्रीय ध्वज लगती है तो मैं टीका जरूर लगवाऊंगा। और सार्वजनिक तौर पर इसका कोई प्रमाण नहीं हैं की अखिलेश यादव और उनकी पत्नी ने कोरोना टीका लगवाया है।

राजनैतिक मतभेद कुछ भी हो, लेकिन आपसी प्रेम सबसे रखते है योगी जी।

मात्र 26 वर्ष की उम्र में गोरखपुर से भारतीय जनता पार्टी से लोकसभा में जाने वाले योगी आदित्यनाथ में सेवा भाव कूट-कूट कर भरा है। गोरक्षनाथ पीठ में महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी योगी आदित्यनाथ ने राजनीति में सेवा तथा समर्पण की इतनी लम्बी लकीर खींच दी है कि कोई आसपास नहीं है। संत तथा योगी भी भूमिका में मुख्यमंत्री अक्सर ही दिख जाते हैं और लोगों की दिल जीत लेते हैं। मुख्यमंत्री ने अखिलेश यादव यादव से दूरभाष पर वार्ता की। मुख्यमंत्री ने उनके परिवार के स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए परिवार के सदस्यों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इससे पहले भी समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव के अस्वस्थ होने की सूचना पर उनके आवास पर जाकर उनके भेंट की थी और संजय गांधी पीजीआइ में भर्ती होने के दौरान भी लगातार मुलायम सिंह यादव का हेल्थ अपडेट लिया था।

विधान परिषद में विपक्ष नेता अहमद हसन से भी हॉस्पिटल जा की थी मुलाकात।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के दौरान 16 दिसंबर को सदन में भी अस्वस्थ होने वाले पूर्व कैबिनेट मंत्री तथा विधान परिषद में नेता विपक्ष अहमद हसन से लारी कार्डियोलाजी में जाकर भेंट की थी। उन्होंने वहां पर किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के सीनियर डॉक्टर्स को भी लगातार अहमद हसन की निगरानी करने का निर्देश भी दिया था। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री अहमद हसन को सीने में दर्द की दिक्कत के बाद गुरुवार को राजधानी लखनऊ के लॉरी कॉडियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here