समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खां से सीतापुर जेल में मुलाकात करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है, इसके बाद भी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव उनसे जेल में मुलाकात करने नहीं जाएंगे। रामपुर से विधायक समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य आजम खां करीब 27 महीने से सीतापुर की जेल में बंद हैं। उनको काफी केस में जमानत मिली गई है, जबकि शत्रु संपत्ति पर कब्जे के मामले में गुरुवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट में जमानत पर सुनवाई होनी है। सीतापुर जेल में बंद आजम खां के केस को लेकर समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के पुख्ता पैरवी करने को लेकर तमाम बड़े मुसलमान नेता अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। बड़ी संख्या में आजम खां के समर्थक भी अखिलेश यादव के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं, लेकिन पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव सीतापुर जेल जाकर आजम खां का हालचाल लेने से कतरा रहे हैं। रमजान में इस बार रोज इफ्तार पार्टी का आयोजन ना करने वाले सपा मुखिया ने आजम खां को लेकर कहा है कि जब आजम खां जेल से छूट कर बाहर आ जाएंगे तभी मुलाकात होगी। अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खां को भाजपा की सरकार ने साजिशन फंसाया है। उनको जेल भी भेजा गया है। भाजपा के बहुत से नेता के साथ कार्यकर्ता उनके पीछे पड़े हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी तो लगातार आजम खां के साथ है। हमारे सभी नेता तथा कार्यकर्ता लगातार उनके मामलों की पैरवी भी कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी से नाराज चल रहे दिग्गज नेता आजम खां ने भी बुधवार को चुप्पी तोड़ते हुए इशारों में अखिलेश यादव पर निशाना साधा है। करीब 27 महीने से सीतापुर जेल में बंद आजम खां अपनी उपेक्षा से नाराज हैं। उनके समर्थक खुलकर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं, लेकिन आजम खां ने पहली बार इस पर कुछ कहा है। समाजवादी पार्टी से विधायक उनके बेटे अब्दुल्ला आजम ने अपने ट्विटर हैंडल से आजम खां के हवाले से यह ट्वीट किया है। आजम खां ने सभी को ईद की मुबारकबाद के साथ कहा कि तू छोड़ रहा है, तो खता इसमें तेरी क्या, हर शख्स मेरा साथ, निभा भी नहीं सकता। वैसे तो एक आंसू ही बहा के मुझे ले जाए। ऐसे कोई तूफान हिला भी नहीं सकता। ईद मुबारक। माना जा रहा है कि आजम खां का इशारा अखिलेश यादव की तरफ है। आजम के करीबी लगातार इस बात को कहते रहे हैं कि अखिलेश यादव को आजम खां के जेल में होने का कोई गम नहीं है और उन्होंने उनकी रिहाई के लिए कुछ नहीं किया गया। एक अन्य ट्वीट में अब्दुल्ला आजम ने पिता के साथ अपनी तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है कि यह पिता के बिना पहली ईद है और ऐसा मौका दोबारा ना आए। उन्होंने लिखा, वो जो ख्वाब था मेरे जहन में, न मैं कह सका न मैं लिख सका, की जबान मिली तो कटी हुई , की कलम मिला तो बिका हुआ। आपके बिना पहली ईद है अल्लाह पाक कभी दोबारा ऐसा मौका ना लाए।

 

कुछ दिन पहले आजम खां के मीडिया प्रभारी ने अखिलेश यादव पर लगाया था गंभीर आरोप

 

रामपुर में आजम खां के ऑफिस में एक बैठक हुई जहा पर आजम खान के मीडिया प्रभारी फसाहत खान उर्फ शानू ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर हमला बोला है। फसाहत खान ने आरोप लगाते हुए कहा कि, मुस्लिम मतदाताओं ने समाजवादी पार्टी को एकतरफा वोट किया है। और यही कारण है की आज समाजवादी सवा सौ के सीटों के आंकड़े को छू पाई है। और आज सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव मुस्लिमों का ही साथ नही दे रहे है। यही नहीं आजम खान के समर्थकों ने कई अन्य गंभीर आरोप लगाए है। उन्होंने कहा कि, आजम खान लगभग दो साल से सीतापुर जेल में बंद है और अखिलेश यादव मात्र एक बार ही उनसे मिलने जेल पहुंचे है। इस पार्टी के मुस्लिमों को कोई तवज्जो नहीं दी जा रही है, यही नहीं अखिलेश यादव ने उन्हे विधानसभा नेता प्रतिपक्ष तक नही बनाया। गुस्से में आजम के मीडिया प्रभारी ने कहा की उन्हें तो हमारे कपड़े से बदबू तक आती है। अगर शानू ने ये सारी बाते और आरोप लगा रहा है तो ये कोई सामान्य बात नही है क्योंकि, को कुछ भी ऐसा नही बोलते जिसमे आजम खान की स्वीकृति ना हो। वो कोई भी बयान बिना आजम खान के सहमति के बिना नहीं देते है। आजम खान के करीबियों और सूत्रों की माने तो शायद ऐसे कयास लगाए जा रहे है की वो एक पार्टी का गठन कर सकते है। क्योंकि ज्यादातर मुकदमों में उन्हें जमानत मिल चुकी है।

 

आजम खान के बेटे भी कर चुके नाराजगी जाहिर।

 

सपा विधायक और आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम भी एक ट्विटर अकाउंट पर शायरी भरे अंदाज पर नाराजगी जाहिर कर चुकी है। अब पिता और बेटा दोनो समाजवादी खेमे से नाराज़ दिखाई दे रहे और आजम खान के समर्थक भी समाजवादी पार्टी से नाराज़ है ऐसे में अटकलें यही है की आजम जेल से छूटने के बाद बड़ा फैसला ले सकते है वो सपा का दामन छोड़ के खुद की पार्टी भी बना सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here