स्वामी प्रसाद मौर्य कल भारतीय जनता पार्टी के मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया और आज उनकी मुश्किलें बढ़ गई। स्वामी प्रसाद मौर्य के ऊपर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के खिलाफ में गिरफ्तारी का वारंट जारी हुआ है। स्वामी प्रसाद के खिलाफ एमपी एमएलए कोर्ट ने गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। सुल्तानपुर कोर्ट ने उन्हें आने वाले 24 जनवरी तक कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है। 2014 में देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में बुधवार को पूर्व श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ पूर्ववत तक जारी गिरफ्तारी वारंट को जारी करने का आदेश दिया है। गिरफ्तारी का वारंट पहले ही जारी हुआ था लेकिन हाईकोर्ट से 2016 में स्टे ले रखा था इसी जनवरी 6 को एमपी एमएलए कोर्ट ने मौर्य को 12 जनवरी को हाजिर होने को कहा था जब वह हाजिर नहीं हुए तो पूर्ववत जारी कर दिया गया।

 

कल पार्टी को दे दिया था त्यागपत्र।

 

स्वामी प्रसाद मौर्य इन दिनों यूपी की राजनीति के सबसे ज्यादा चर्चित चेहरों में शुमार हैं. मालूम हो कि मौर्य ने योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। दलित और पिछड़ों के उत्पीड़न का हवाला देते हुए बीजेपी छोड़ने का ऐलान कर दिया है इशारा मिला है कि मौर्य समाजवादी पार्टी ज्वाइन करेंगे लेकिन अभी उन्होंने सपा आधिकारिक तौर पर ज्वाइन नहीं की है। और वही स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य ने कहा कि उनके पिताजी मंत्रिमंडल से इस्तीफा जरूर दिया, लेकिन उन्होंने अभी आधिकारिक तौर पर समाजवादी पार्टी को ज्वाइन नहीं किया है। साथ में संघमित्रा ने यह भी कहा कि वह खुद बीजेपी में ही रहेंगी अखिलेश संग स्वामी प्रसाद मौर्य की तस्वीर पर बेटी संघमित्रा मौर्य ने कहा कि ऐसी तस्वीर समाजवादी पार्टी ने 2017 में भी वायरल की थी।

 

मेरा इस्तीफा किसी हाल में वापस नहीं होगा- मौर्य

 

उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। जल्द ही भाजपा से इस्तीफा वक्त तय करेगा। जो तीर एक बार कमान से निकल जाती है वापस नहीं आती। अपनी बेटी संघमित्रा के इस्तीफे पर बोले कि वो खुद अपना फैसला करेगी। मेरा इस्तीफा वर्तमान सरकार के ताबूत में आखिरी कील साबित होगा। अंतिम निर्णय 14 जनवरी को लूंगा। मौर्य ने कहा कि स्वभाविक रूप से मेरा इस्तीफा बीजेपी के बड़े-बड़े नेताओं की नींद हराम कर दिया है और जो कुंभकर्ण की नींद सो रहे थे, अपने आप को तुर्रम खां समझ रहे थे आज वही लोग हर विधायक की आरती उतार रहे हैं। हर मंत्री से सम्पर्क करके मना रहे हैं। कल तक बात नहीं करते थे, आज मान-मनौअल कर रहे हैं। ये मेरे इस्तीफे की ताकत है।

 

तीन और विधायकों ने बीजेपी छोड़ दी।

 

स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद भाजपा के तीन और विधायक विधायकों ने इस्तीफा दे दिया जिसमें बांदा जिले के तिंदवारी विधानसभा के विधायक बृजेश प्रजापति शाहजहांपुर की तिलहर सीट से विधायक रोशनलाल वर्मा और कानपुर के बिल्हौर से विधायक भगवती सागर ने बीजेपी छोड़ी। के मुताबिक यह सभी स्वामी प्रसाद मौर्या के समर्थक थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here