उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा कर दी गई है। और कोरोना की तीसरी लहर ओमिक्रॉन वेरिएंट के रूप में तेजी से फैल रहा है। और इसी को देखते हुए निर्वाचन आयोग ने इसके रोक धाम के लिए सभी चुनावी रैलियों को 15 तक के लिए पाबंदी लगा दी है। और बीजेपी ने भी वर्चुअल तरीके से लोगो तक अपनी बात पहुंचाने के लिए डिजिटल माध्यम से रैलियां करने की तैयारी में है। सारी पार्टियां डिजिटल तरीके से लोगो को जोड़ने के तैयारी में है तो वही बीजेपी डिजिटल वॉर के लिए पिछले दो साल से अपने आप को मजबूत करने में लगी हुई है। पार्टी पूरी तरीके से डिजिटल चुनाव के लिए तैयार है। बीजेपी की वर्चुअल रैली पर यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि हमारे हर बूथ पर 50 से ज्यादा कार्यकर्ता डिजिटल माध्यम से जुडे हैं। इसमें बड़ी संख्या युवाओं और महिलाओं की है। सभी डिजिटल रैली के लिए तैयार हैं। इसलिए अन्य के मुकाबले देखा जाए तो बीजेपी डिजिटल माध्यम से प्रचार करने में एक कदम आगे है। भाजपा 15 जनवरी तक अपने क्षेत्रीय मीडिया कार्यालय शुरू कर देगी। इसके बाद निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन जारी होने के बाद सभी जगह वर्चुअल प्रचार प्रारंभ होगा।

 

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा जन-जन को जोड़ेगे वर्चुअल माध्यम से।

 

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा की हमारे बूथ स्तर से लेकर पन्ना प्रमुख तक सब लोग लगातार जनता के बीच रहे है और इसलिए वर्चुअल माध्यम से रैलियां करना हमारे लिए कोई मुश्किल नहीं है। हम जन-जन को इस माध्यम से जोड़ेगे क्योंकि सत्ता में आने से पहले हमने जो भी कहा था उसे पूरा करने का कार्य किया है। चाहे वो भू माफिया रहे हो या गैंगस्टर रहे हो, हमने सबका सफाया किया है। इसलिए जनता का हम पे भरोसा है। उन्होंने कहा की कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए चुनाव आयोग ने जो फैसला लिया है वो सराहनीय है क्योंकि हमारे लिए प्रदेश और देश की जनता पहले है। इसलिए ये फैसला काफी अहम है। केशव ने कहा कि बूथों पर तैनात कार्यकर्ता डिजिटल रैली जन-जन तक पहुंचाएंगे। उन्होंने कहा कि सच्चाई सबके सामने आ जाती है। बीजेपी का कोई भी डिजिटल माध्यम फेक खबर नहीं फैलाता है। हमारा सोशल मीडिया पर कार्यकर्ता ऐक्टिव है लेकिन वह फेक खबर नहीं फैलाता है। अगर वह ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होती है।

 

केशव ने अखिलेश यादव की ली चुटकी।

 

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि, अखिलेश यादव को तो अब आभाष होने लगा है की ये चुनाव उनके लिए कितना मुश्किल है। और मुझे उनके ही खेमे से पता चला है की अब वो 2022 की नही बल्कि 2027 के चुनाव की तैयारी में जुट गए है। अखिलेश यादव को जो बात 10 मार्च को कहनी थी उन्होंने 10 जनवरी को ही कह दिया। उन्होंने अपनी पराजय स्वीकार कर लिया और इस साहस के लिए मैं उनकी सराहना करता हूं और बधाई देता हूं।

 

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा समाजवादी के पास नेता नही, गुंडे, माफिया, और, अपराधी है।

 

डिप्टी सीएम ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा की समाजवादी पार्टी के पास नेता नही बल्कि, गुंडे, माफिया, अपराधी, भू माफिया, और भ्रष्टाचारी है। और उनका काम ही है सत्ता में आके प्रदेश और जनता को लूटना। जबकि बीजेपी सत्ता में आके ऐसे लोगो को बाहर का रास्ता दिखाती है और उनको जेल में डालने का कार्य करती है।

 

अखिलेश यादव डिजिटल माध्यम से प्रचार प्रसार के लिए डरे हुए है, बीजेपी को बताया ताकतवर।

 

अखिलेश यादव ने निजी न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि डिजिटल माध्यम में भाजपा बहुत पहले से मजबूत है। झूठ फैलाने के लिए भाजपा ने डिजिटल का बड़ा इंफ्रस्ट्रक्चर बनाया है। डिजिटल में एड देने के लिए भाजपा पैसा भी बहा रही है। ऐसे में छोटे दलों को चुनाव आयोग सहयोग करे। न्यूज चैनल और क्षेत्रीय चैनलों में छोटे दलों को भाजपा के बराबर स्पेस मिले, फ्री में मिले, चुनाव आयोग को ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए। कहा कि समाजवादी पार्टी तो भाजपा का मुकाबला हर प्लेटफॉर्म पर करने को तैयार है लेकिन वर्चुअली जनता तक पहुंचने में छोटे दलों के पास इंफ्रास्ट्रक्चर और पैसा नहीं है। अगर चुनाव आयोग सहयोग नहीं करेगी तो छोटे दल पीछे रह जाएंगे।

 

50 हजार लोगो को जोड़ने की तैयारी

 

भाजपा आईटी सेल के संयोजक कामेश्वर मिश्रा का दावा है कि अब तक हम एक बार में 50 हजार लोगों को जोड़ने का प्रयोग कर चुके हैं, आगे की तैयारी डेढ़ लाख तक लोगों को जोड़कर बड़ी वर्चुअल रैली करने की है। इसमें सभी बड़े नेताओं की अलग-अलग बड़ी रैलियां होंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here