आईपीएल 2022 में चेन्नई सुपर किंग का खराब फॉर्म जारी है। लगातार वो तीन मैच हार चुके है। आईपीएल 2022 के 11वें मुकाबले में पंजाब किंग्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को 54 रनों से हरा दिया। चेन्नई की टीम को देख कर जरा भी नही लग रहा की ये वही टीम है जो पिछले साल आईपीएल का कप उठाया था। वही अगर दूसरी तरफ पंजाब की बात करे तो पंजाब की यह टूर्नामेंट की दूसरी जीत है और वह इसी के साथ प्वॉइंट्स टेबल में चौथे स्थान पर पहुंच गए हैं। पंजाब इस आईपीएल में मजबूती से आगे आ रहा है। वहीं टूर्नामेंट में निराशाजनक शुरुआत करने वाले चेन्नई सुपर किंग्स ने हार की हैट्रिक लगाई है। इस मैच में चेन्नई  की टीम कही से भी चैंपियन की तरह  नहीं खेली। प्वॉइंट्स टेबल में चेन्नई सुपर किंग का अभी तक खाता भी नहीं खुल पाया है। इस तरह से पॉइंट्स टेबल के 9वे स्थान पर चेन्नई की टीम काबिज है। पंजाब ने इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए सी.एस.के के सामने 181 रनों का अच्छा खासा लक्ष्य रखा था जिसके सामने चेन्नई की पूरी टीम 126 रनों पर ही ढेर हो गई,चेन्नई शुरू से ही लचीली नजर आई उसके लगातार विकेट गिरे। पंजाब के लिए लिविंग स्टोन ने 60 रनों की आतिशी पारी खेलने के साथ दो विकेट भी लिए। इस ऑलराउंड परफॉर्मेंस की वजह से उन्हें मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ड से भी उन्हें नवाजा गया। इस से पहले आपको बता दे कि रविंद्र जडेजा ने इस मैच में टॉस जीतकर पंजाब को पहले बल्लेबाजी करने को आमंत्रित किया। पंजाब की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी,वो पिछले मैच में भी फ्लॉप साबित हुए थे,अब उनपे कप्तानी की प्रेशर है या फिर वो फॉर्म में नही है। मयंक अग्रवाल 4 और राजपक्षे 9 रन बनाकर पवेलियन लौट गए थे। पंजाब के जल्दी जल्दी 2 गिर गए थे, पंजाब को दूसरे ओवर में ही 14 रन पर दो झटके लग चुके थे। इसके बाद बल्लेबाजी करने आए लियाम लिविंगस्टोन ने 32 गेंदों पर 60 रन की तूफानी पारी खेली और अपने टीम को संकट से निकाला। इस दौरान लिविंगस्टोन ने 5 चौकों और इतने ही छक्के लगाए यानी 5 छक्के लगाए। इसके अलावा धवन ने 24 गेंदों पर 33 रनों की पारी खेली। धवन और लिविंगस्टोन के बीच तीसरे विकेट के लिए 95 रनों की एक अच्छी और तेज साझेदारी हुई। इन दोनों के विकेट गिरने के बाद पंजाब ताश के पत्तों की तरह ढहती नजर आई। चेन्नई के तरफ से क्रिस जॉर्डन और प्रिटोरियस को 2-2 विकेट चटकाए। इसके बाद बड़े सा लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई सुपर किंग की शुरुआत एकदम से खराब रही। 181 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सीएसके की टीम शुरुआत से ही लड़खड़ाती हुई दिखाई दी। और नतीजा रहा की चेन्नई अंत तक संभल नहीं पाई। खराब फॉर्म में चल रहे रितुराज गायकवाड़ फिर से खाता खोल कर चलते बने,उन्होंने (1) रन का योगदान दिया। इसके बाद उथप्पा भी 13 के निजी स्कोर पवेलियन लौट गए। लेकिन उथप्पा जब खेल रहे थे तब ऐसा लग रहा था की आज वो एक अच्छी पारी खेलेंगे लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। उम्मीद थी की रायुडू-मोइन अली जैसे खिलाड़ी सी.एस.के को संभाल लेंगे, मगर यह भी ज्यादा देर क्रीज पर नहीं टिक सके। चेन्नई की टीम पूरी तरह से अपने लचर प्रदर्शन का शिकार हुई। रायुडू ने जहां 13 रन बनाए, वहीं मोइन अली और रविंद्र जडेजा खाता भी नहीं खोल पाए। अब इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है की चेन्नई की टीम ने कैसे खेला। सी.एस.के के लिए शिव दुबे ने 57 रनों की सर्वाधिक पारी खेली। और धोनी के साथ मिल कर उन्होंने अच्छी पार्टनरशिप की। जब तक धोनी और दुबे साथ बल्लेबाजी कर रहे थे तब तक सी.एस.के फैंस को जीत की उम्मीद रहा होगा, क्योंकि दोनो ही अच्छी पारी खेल रहे थे लेकिन दुबे के आउट होते ही चेन्नई की पूरी टीम सिमट गई। सीएसके 18 ओवर में 126 रनों पर सिमट गई। दुबे के बाद ब्रावो भी आए और चले गए। वैभव अरोड़ा ने 2 विकेट अपने नाम किए तो वही राहुल चाहर ने 3 विकेट लिए।
लगातार तीन मैचों में फ्लॉप साबित हुए रितुराज गायकवाड
चेन्नई सुपर किंग हद तक अपने ओपनर्स पे डिपेंड रहती आई ये पिछले साल के आईपीएल में भी देखने को मिला था। जब फाफ और रितुराज ओपनिंग अच्छा कीये थे तब चेन्नई की टीम किसी भी मैच को जीत लेती थी लेकिन फाफ आरसीबी में चले गए और रितुराज फॉर्म में नही है। सीएसके के सलामी बल्लेबाज और पिछले सीजन के ऑरेंज कैप विजेता रितुराज गायकवाड़ फॉर्म से जूझते हुए दिखाई दे रहे है। पंजाब के खिलाफ वह मात्र 1 के निजी स्कोर पर आउट होकर पवेलियन लौटे। इस तरह पहले तीन मैच में वह मात्र दो ही रन बना पाए हैं। जो बताता है की वो बुरे फॉर्म से गुजर रहे है। कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ ओपनिंग मुकाबले में वह बिना खाता खोले आउट हुए थे, वहीं लखनऊ सुपर जाइंट्स के खिलाफ वह मुश्किल से एक ही रन बनाए पाए थे। और फिर कल के मुकाबले में पंजाब के खिलाफ उनका जल्दी आउट हो जाना बताता है की वो बुरे फॉर्म से गुजर रहे हैं। लेकिन ऐसा पहली दफा नही हो रहा है की वो सीजन के शुरू में फॉर्म में नही है,इसके पहले भी कई बार हो चुका है की वो स्टार्टिंग में फॉर्म में नही होते है लेकिन जैसे जैसे मैच होते है वो फॉर्म में आ जाते है। पिछले दो सीजन के उनके शुरुआती तीन मैचों पर नजर डालें तो 2020 में उन्होंने 0,5,0 और 2021 में 5,5,10 रन बनाए थे। ऐसे में उनसे उम्मीद रहेगी कि वह आगामी मुकाबलों में अच्छा परफॉर्मे कर सी.एस.के को ठोस शुरुआत दें जो बहुत जरूरी है चेन्नई सुपर किंग्स के लिए क्योंकि किंग्स अपने शुरू के तीन मैच हार चुके हैं। अगर इसी तरह चेन्नई अपने आने वाले मैच भी हारती है तो उसका आने वाला समय काफी खराब होगा क्योंकि पूरी टीम अपनी अपनी जोर आजमाइश कर रही है। चेन्नई के समर्थक अभी भी उम्मीद लगाए बैठे है की रितुराज जल्दी से फॉर्म में आए और चेन्नई को वापसी कराए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here