पिछले साल की कप की विजेता चेन्नई सुपर किंग की स्थिति इस सीजन बिल्कुल ठीक नही है। चेन्नई अभी तक चार मैच खेल चुकी है और उसे एक में भी जीत नही मिल पाई है। ये पिछले साल की विजेता टीम है जिसे अभी तक इस सीजन के एक जीत का स्वाद तक नही मिल पाया है। अब आज के मैच में चेन्नई सुपर किंग को हैदराबाद ने 8 विकेट से हरा दिया। शनिवार यानी आज सनराइजर्स हैदराबाद ने एक तरफा मुकाबले में रवींद्र जडेजा की टीम को हरा दिया। हैदराबाद ने इस सीजन में पहली बार जीत का स्वाद चखा है। जब मैच शुरू हुआ था तब दोनो टीम अभी तक इस श्रृंखला में हारते ही आ रही थी लेकिन इस मैच में हैदराबाद ने जीत कर इस मिथक को तोड़ा। देखना ये है की अब चेन्नई सुपर किंग्स का मिथक कब टूट रहा है। टॉस हार कर पहले बैटिंग करने उतरी चेन्नई सुपर किंग्स की शुरुआत ही बिल्कुल खराब रही और इस सीजन अच्छे फॉर्म में दिख रहे रॉबिन उथप्पा 15 रन बनाकर आउट हो गए। उसके तुरंत बाद ही ऋतुराज गायकवाड़ भी 16 रन बनाकर चलते बने। ऋतुराज गायकवाड़ इस पूरे सीजन में 4 मैच खेल चुके है लेकिन अभी तक उनके बल्ले से एक बड़ी पारी नही निकल पाई है जो चेन्नई की टीम के लिए नुकसान ही नुकसान है क्योंकि पिछले साल जब चेन्नई ने कप उठाया था तब ऋतुराज गायकवाड़ का सबसे ज्यादा योगदान था और यही योगदान के वजह से चेन्नई ने कप जीत लिया था। इस साल अभी तक चेन्नई ने अपने 4 मैच खेल लिए और चारो में उसे हार का सामना करना पड़ा है। मतलब ये कहना गलत नही होगा की चेन्नई की बैटिंग लाइनअप ऋतुराज गायकवाड़ पर ही आश्रित है। ऋतुराज के आउट होने के बाद बाद में अंबति रायडू (27 रन) और मोइन अली (48 रन) ने कुछ हदतक टीम के स्कोर को आगे बढ़ाया, और एक लड़ने लायक स्कोर बनाने में अपना छोटा सा योगदान दिया। एक बार फिर पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पूरी तरह से फेल हुए और 3 ही रन बना पाए। उनसे पहले शिवम दुबे भी 3 रन बनाकर आउट हुए। जो इस सीजन अच्छे फॉर्म में दिख रहे थे। हालांकि, आखिर में कप्तान रवींद्र जडेजा की धुआंधार पारी और ड्वेन ब्रावो की तेज पारी के दम पर चेन्नई 150 के करीब पहुंच पाई। और एक लड़ने लायक स्कोर दिया, अब दारोमदार चेन्नई के गेंदबाजों पर था।

 

दोनो टीम कुछ इस प्रकार थी

 

सनराइजर्स हैदराबाद : अभिषेक शर्मा, केन विलियमसन (कप्तान), राहुल त्रिपाठी, एडन मर्करम, निकोलस पूरन (विकेटकीपर), शशांक सिंह, वाशिंगटन सुंदर, भुवनेश्वर कुमार, मार्को येनसन, उमरान मलिक, टी. नटराजन

चेन्नई सुपर : रॉबिन उथप्पा, ऋतुराज गायकवाड़, मोइन अली, अंबति रायडू, रवींद्र जडेजा, शिवम दुबे, एमएस दोनी, ड्वेन ब्रावो, क्रिस जॉर्डन, महीष तिक्षाणा, मुकेश चौधरी

 

हैदराबाद की पहली जीत

 

चेन्नई के दिए हुए स्कोर का पीछे करने उतरी हैदराबाद की शुरुआत अच्छी रही। नौ ओवर के बाद सनराइजर्स हैदराबाद ने बिना कोई विकेट गंवाए 62 रन बना लिए थे। फिलहाल ओपनर अभिषेक शर्मा 23 गेंदों पर 39 रन और कप्तान केन विलियम्सन 31 गेंदों पर 23 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे। चेन्नई के गेंदबाज विकेट को लेकर तरस गए थे,ये चेन्नई सुपर किंग्स वो चेन्नई लग ही नहीं रही जो सितंबर में दिखी थीं। चेन्नई की टीम ऐसा लग ही नही रहा की जीत के लिए खेल रही। 12 ओवर के बाद सनराइजर्स हैदराबाद ने बिना कोई विकेट गंवाए 89 रन बना लिए थे। युवा अभिषेक शर्मा ने आईपीएल करियर की पहली फिफ्टी लगाई। उन्होंने 32 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया। वहीं, कप्तान केन विलियम्सन 39 गेंदों पर 32 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे। ये दोनो ने हैदराबाद की टीम को जीत की नीव रख दी थी। 13वें ओवर में 89 के स्कोर पर हैदराबाद को पहला झटका लगा। कप्तान केन विलियम्सन 40 गेंदों पर 32 रन बनाकर आउट हुए। इसमें दो चौके और एक छक्का शामिल था। यह डेविड वार्नर के नहीं खेलते हैदराबाद की सबसे बड़ी ओपनिंग पार्टनरशिप है। इस मामले में उन्होंने पार्थिव पटेल और शिखर धवन द्वारा 2013 में बनाए गए रिकॉर्ड की बराबरी की। वार्नर के रहते हैदराबाद के 14 बड़ी ओपनिंग साझेदारियां रहीं। 13 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर एक विकेट पर 97 रन था। फिलहाल राहुल त्रिपाठी तीन गेंदों पर सात रन और अभिषेक शर्मा 35 गेंदों पर 57 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे। 16 ओवर के बाद सनराइजर्स हैदराबाद ने एक विकेट गंवाकर 125 रन बना लिए थे। फिलहाल अभिषेक शर्मा 47 गेंदों पर 73 रन और राहुल त्रिपाठी नौ गेंदों पर 19 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे। हैदराबाद को 24 गेंदों पर 30 रन की जरूरत थी।हैदराबाद ने 17.4 ओवर में दो विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। हैदराबाद के लिए अभिषेक शर्मा ने सबसे ज्यादा 50 गेंदों पर 75 रन की धमाकेदार पारी खेली। राहुल त्रिपाठी 15 गेंदों पर 39 रन बनाकर नाबाद रहे। इस जीत के साथ सनराइजर्स हैदराबाद की टीम प्वाइंट्स टेबल में आठवें नंबर पर पहुंच गई है। वहीं, चेन्नई की टीम प्वाइंट्स टेबल में नौवें नंबर पर है। अब हर मैच के साथ चेन्नई की टीम ढीली पड़ती जा रही है और उसका आगे का रास्ता बहुत मुश्किल होने वाला है। शुरू के चार मैच चेन्नई बुरी तरह से हार चुकी है। चेन्नई में धोनी का अनुभव और रैना की बैटिंग की कही न कही कमी तो खल रही है,फाफ जो चेन्नई के लिए अच्छा खेलते आए है वो भी इस सीजन आरसीबी के कप्तान बन कर खेल रहे है। चेन्नई सुपर किंग्स अगर समय रहते वापसी नही करती है तो वो आईपीएल से निकलने वाली पहली टीम होगी। आगे के अगर 2 मैच और चेन्नई हार जाती है तो फिर उसके बाकी के मैच करो या मरो वाले हो जाएंगे। कही न कही रविन्द्र जडेजा भी पूरी तरह से फेल हुए है अपनी कप्तानी में।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here