विधानसभा चुनाव नजदीक है, और नेताओं का पार्टी बदलने का सिलसिला जारी है। अपने फायदे के खातिर और सत्ता में बने रहने के खातिर विधायक और मंत्री, कोई सपा छोड़ बीजेपी ज्वाइन कर रहा तो, कोई बीजेपी छोड़ सपा। और आज समाजवादी पार्टी के नेता व मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव जोकि तीन बार सपा से विधायक भी रहे है। वो अब समाजवादी पार्टी छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। सिरसागंज से तीन बार विधायक रहे हरिओम यादव ने। दिल्ली में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

 

रामगोपाल यादव से था मतभेद।

 

सिरसागंज से फिर एक बार टिकट की दावेदारी कर रहे विधायक हरिओम यादव को रामगोपाल यादव के साथ मतभेदों का खामियाजा भुगतना पड़ गया है। तीन बार के सपा विधायक हरिओम यादव भाजपाई हो गए। हरिओम यादव शिकोहाबाद से वर्ष 2002, 2012 और 2017 में सिरसागंज सीट से विधायक रह चुके हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा की प्रचंड लहर के दौरान 2017 में फिरोजाबाद जिले की एक मात्र सिरसागंज सीट ही समाजवादी पार्टी बचा पाई थी। लेकिन अब रामगोपाल यादव से मतभेदों के कारण सपा विधायक का टिकट कटना तय माना जा रहा है। जिसके बाद विधायक ने भाजपा ज्वाइन कर ली। हरियोम यादव का नाम फिरोजाबाद जिले के कद्दावर नेताओं में आता है।

बता दें कि प्रोफेसर रामगोपाल यादव और शिवपाल यादव में आपसी खींचतान और दूरियां की वजह से ही विधायक हरिओम यादव हमेशा प्रोफेसर रामगोपाल से अनबन बनी रही। अखिलेश और शिवपाल यादव में जब दूरी बढ़ी तो हरिओम शिवपाल के साथ हो गए थे। वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में फिरोजाबाद से प्रसपा प्रत्याशी रहे शिवपाल के समर्थन में हरिओम यादव ने न केवल प्रसपा का झंडा उठाया बल्कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव पर जमकर हमला किया।

 

जिला पंचायत के चुनाव में की थी बीजेपी की मदद।

 

जिला पंचायत के चुनाव में हरिओम यादव ने भारतीय जनता पार्टी की मदद की थी। और शायद एक वजह ये भी थी जिसकी वजह से बीजेपी फिरोजाबाद सीट से जीत हासिल की थी। रामगोपाल यादव से कभी बनी नही और और शिवगोपाल यादव के बेहद करीबी माने जाते है। लेकिन अब उन्होंने बीजेपी का दामन धाम लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here