शरीर को स्वस्थ और सेहतमंद बनाने रखने के लिए पौष्टिक आहार और व्यायाम के साथ भरपूर नींद को बहुत आवश्यक माना जाता है। अध्ययनों के मुताबिक एडल्ट्स को रोजाना कम से कम सात-आठ घंटे की नींद जरूर पूरी करनी चाहिए। अच्छी नींद समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक मानी जाती है। नींद के दौरान कुछ ऐसे हार्मोन का स्राव होता है, जिसकी मदद से शरीर अपने कोशिकाओं की मरम्मत करती है और इसे दोबारा से फिट बनाती है। लेकिन क्या आप जानते है कि हमारा सोने का तरीका भी आपकी सेहत पर असर डालता है।

 

नींद पूरी नहीं होने के कारण हमें थकान, तनाव और चिड़चिड़ापन महसूस हो सकता है। हालांकि हम में से अधिकांश लोग रात को अच्छी नींद नहीं ले पाते है। इसलिए हमें अच्छी नींद के साथ सही तरीका पता होना बहुत ही जरूरी है।स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक तनाव, चिंता और कई पर्यावरणीय कारकों के चलते हमारी नींद काफी प्रभावित हुई है।

 

इन घरेलू नुस्खों से आएगी अच्छी नींद –

  • नींद की कमी से परेशान लोगों के लिए मैग्नीशियम वाली चीजों का सेवन करना लाभदायक हो सकता है। मैग्नीशियम, मुख्यतौर पर मांसपेशियों को आराम देने और तनाव को दूर करने में मदद करता है।
  • नींद की कमी को दूर करने और गुणवत्ता को सुधारने में दूध का सेवन करना विशेष लाभदायक होता है। रात में सोने से पहले गर्म दूध में एक चुटकी हल्दी मिलाकर पीने से शरीर को दर्द और थकान से आराम मिलता है जो अच्छी नींद प्राप्त करने में काफी सहायक है।
  • दूध को कैल्शियम और विटामिन्स का भी अच्छा स्रोत माना जाता है, ऐसे में इसका सेवन करना शरीर के लिए कई तरह से लाभदायक हो सकता है।
  • नींद न आने की समस्या से जूझ रहे है तो इसके लिए मसाज थेरपी आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। नींद की गुणवत्ता सुधार करके अनिद्रा से पीड़ित लोगों को लाभ पहुंचाने में इस थेरपी के लाभ हो सकता है।
  • डार्क चॉकलेट, नट्स, सीड्स और साबुत अनाज में इस पोषक तत्व की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है, जो आपकी नींद न‌ आने की समस्या को दूर कर सकता है।

सोने के यह तरीके आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है-

  • बहुत सारे लोगों को सिर के नीचे दो तकिये लगाने की आदत होती है। लेकिन साइनस की समस्या झेल रहे लोगों के लिए यह पोजिशन काफी लाभदायक है। सिर के नीचे दो तकिये लगाकर सोएं ताकि आपका सिर सोते वक्त थोड़ा ऊंचा उठा रहना चाहिए।
  • बाई तरफ करवट सोना हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिहाज से बहुत अच्छा होता है। इससे आपके दिल पर अधिक दबाव नहीं पड़ता, और वह बेहतर तरीके से कार्य कर पाता है।
  • बाई करवट सोने से शरीर में रक्त कर संचार बेहतर होता है और नींद भी अच्छी आती है। इस तरह से सोने पर आपको उठने पर थकान महसूस नहीं होगी और पेट संबंधी समस्याएं भी हल हो जाएंगी।
  • कई लोगों को तकिया सिर के नीचे रखने की बजाए पैरों में फंसाकर कर सोते है। इस आदत के लिए घरवाले हमें टोकते भी है, लेकिन इस पोजिशन से थकावट के बाद पैरों को काफी आराम मिलता है।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए बाईं करवट सोना ही सबसे बेहतर होता है। क्योंकि उससे गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here