गर्मियों के मौसम में गर्म हवा का चलना आम बात होती है और इन्हीं गर्म हवाओं से लू लगने का ख़तरा होता है । कई बार तो गर्मीयों के मौसम में किसी कारण के चलते बहुत ज़्यादा देर तक तेज धूप में रहने से लू लग सकती है । जिसकी वजह से सिरदर्द बुखार और उल्टी की समस्या हो सकती है । तो आइए जानते हैं कि कैसे लू जैसी समस्या से बचें और इन समस्या के लक्षण क्या हैं जानिए । गर्मियों के मौसम में जब गर्म हवाएं हमारे शरीर के संपर्क में आती है , तो हमारे शरीर का तापमान बढ़ा देती है और जिसके वजह से कई समस्याएं होने लगती है । और ज्यादा देर तक धूप में काम करना और शरीर में पानी की कमी होना लू लगने के प्रमुख कारण है । हमारे बच्चे और बूढ़े लोग लू की चपेट में जल्दी ही आ जाते है ।

लू की समस्या हमें तब होती है जब हम लंबे समय बिना कोई तेज धूप से बचें धूप में रहते है । गर्मियों में लू लगना बहुत ही आम है । अगर हमारे शरीर का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस या उससे ज्यादा हो जाता है , तो यह लू लगने का लक्षण है । इसका तुरंत इलाज जरूरी है नहीं तो यह मांसपेशियों के साथ दिल और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकता है । अगर हमारी स्थिति ज्यादा गंभीर हो जाए कि हमारे जान जाने का भी खतरा रहता है । तो आइए जानते हैं कि कैसे इस समस्या से हम छूटकारा पा सकते हैं ।

 

लू लगने के लक्षण –

गर्मियों के मौसम में घर से बाहर निकलना ही मुश्किल हो जाता है । गर्मियों के दिनों में दोपहर के समय बाहर बहुत तेज गर्म हवाएं चलती है , इन गर्म हवाओं को ही लू कहते है । मजबूत इम्युनिटी वाले लोग तो इन गर्म हवाओं को सहन कर लेते है लेकिन अधिकांश लोग इन हवाओं को सहन नहीं कर पाते है और इसके संपर्क में आते ही बीमार पड़ जाते है । गर्मियों के मौसम में जब गर्म हवाएं हमारे शरीर के संपर्क में आती है , तो हमारे शरीर का तापमान बढ़ा देती है और जिसके वजह से कई समस्याएं होने लगती है । और ज्यादा देर तक धूप में काम करना और शरीर में पानी की कमी होना लू लगने के प्रमुख कारण है । हमारे बच्चे और बूढ़े लोग लू की चपेट में जल्दी ही आ जाते है । तो आइए जानते है लू लगने के लक्षण क्या है –

लू लगने पर सिर में तेज दर्द होना, चक्कर आना और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं होती है । शुरुआत में इन लक्षणों की तीव्रता काफी कम होती है , लेकिन समय के साथ साथ ये बढ़ते जाते है । लू लगने पर अचानक से तेज बुखार होने लगता है और शरीर में गर्मी बढ़ती जाती है । हमारे शरीर में गर्मी बढ़ने के बावजूद भी लू लगने के दौरान शरीर से पसीना नहीं निकलता है । लू लगने पर उल्टी आना और शरीर में तेज दर्द होना आम बात है । उल्टी होने के कारण शरीर में सोडियम और पोटैशियम का संतुलन बिगड़ जाता है । कमजोर इम्युनिटी वाले या शारीरिक रुप से कमजोर लोग लू लगने से बेहोश भी हो जाते है ।

  1. सिरदर्द होना ।
  2. चक्कर आना ।
  3. मुंह सूखना ‌।
  4. आंखों में जलन ।
  5. त्वचा का खुश्क हो जाना ।
  6. ज्यादा पसीना आना ।
  7. मांसपेशियों में ऐंठन व कमजोरी ।
  8. उल्टी आना ।
  9. दस्त ।
  10. ब्लड प्रेशर बढ़ना ।
  11. बेहोशी आना ।

 

लू से बचाव के तरीके और घरेलू उपचार –

लू लगने पर हमें तुरंत उस व्यक्ति को छायादार जगह पर या ठंडी जगह पर लिटाना चाहिए । और शरीर को आराम दिलाने लिए हमें उस व्यक्ति के शरीर को ठंडा रखने के लिए शरीर पर ठंडे पानी की पट्टियां लगानी चाहिए । हमें व्यक्ति को लेटाने के बाद घर के खिड़की दरवाजे खोल देना चाहिए और कूलर या एसी चालू कर देना चाहिए जिससे शरीर को ठण्डेपन का एहसास हो । अगर व्यक्ति लू लगने से बेहोश हो गया है, तो तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाना चाहिए । तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे उपाय के बारे में जो हमें लू से बचाने में कारगर साबित होगा ।

 

लू से बचे रहें के लिए हमें इन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

  • हमें गर्मियों के दिनों में हल्का भोजन करना चाहिए ।
  • हमें गर्मियों के मौसम में पूरी बांह के कपड़े पहनना चाहिए और नंगे पैर बाहर नहीं निकलना चाहिए ।
  • गर्मियों में हमें हल्के रंगों वाले सूती कपड़े पहनने चाहिए ‌और सिंथेटिक कपड़ों से परहेज करना चाहिए।
  • हमें गर्मीयों के दिनों में कभी भी खाली पेट घर से बाहर ना निकलना चाहिए ।
  • गर्मियों में हमें ज्यादा देर तक धूप में रहना हो तो छाते का इस्तेमाल करें ।
  • गर्मियों में हमें अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए और अपने साथ भी रखना चाहिए आप चाहें तो बाहर जाते समय पानी की बोतल साथ लेकर जाएं ।
  • बता दें कि लू लगने के अधिकतर मामलों में हम कुछ घरेलू उपाय अपनाकर ही इसे ठीक कर सकते है । इसके लिए अपनी डाइट में ठंडे तरल पेय पदार्थों का सेवन अधिक करना चाहिए । तो आइये कुछ प्रमुख घरेलू उपायों के बारे में जानते है ।
  • हमें घर पर ही आम का पना बनाकर पीना चाहिए । हमें लू से बचाने के लिए आम के पना का उपाय सबसे असरदार घरेलू उपाय है ।
  • हमें प्याज को भून लेना चाहिए और इसे एक साधारण प्याज के साथ मिलाकर पीस लेना चाहिए । इस मिश्रण में हमें जीरा पाउडर और मिश्री मिलाकर खाने से भी लू से आराम मिलता है । इसके अलावा आप चाहें तो रोजाना खाने में कच्चे प्याज का इस्तेमाल कर सकते है ।
  • हमें धनिया और पुदीना दोनों की ही तासीर ठंडी होती है । लू से बचने के लिए गर्मियों में रोजाना धनिये और पुदीने का जूस बनाकर पीना चाहिए ।
  • हम चाहे तो खुद को लू से सुरक्षित रखने के लिए सब्जियों का सूप बनाकर रोजाना सेवन करना चाहिए ।
  • हमें हमारे शरीर को ठंडा रखने के लिए दिन में एक या दो बार नींबू पानी का सेवन ज़रुर करना चाहिए ।
  • लू लगने पर शरीर में मिनरल और इलेक्ट्रोलाइट की कमी हो जाती है । खासतौर पर पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे ज़रुरी मिनरल की मात्रा काफी कम हो जाती है । ऐसे में हमें सेब के सिरके का सेवन करना चाहिए ऐसा करने से खोए हुए मिनरल वापस मिल जाते है और शरीर में इनका संतुलन बना रहता है । आप चाहें तो इसका दो चम्मच सेब के सिरके को एक गिलास पानी में मिलाकर दिन में दो बार इसका सेवन कर सकते है ।
  • चंदन और कई तरह की जड़ी बूटियों से निर्मित एक आयुर्वेदिक पेय औषधि है । आयुर्वेद के अनुसार चंदनासव में शीतल गुण होता है । ठंडी होने के कारण जब शरीर में गर्मी या जलन काफी बढ़ जाती है , तो इसका इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद रहता है । लू लगने पर इसका सेवन करने से जल्दी आराम मिलता है । आप चाहें तो इसे तीन से चार चम्मच चंदनासव और समान मात्रा में पानी मिलाकर दिन में दो बार खाना खाने के बाद इसका सेवन करना चाहिए ।
  • लू से बचाव के लिए हमें बेल का शरबत का उपयोग करना चाहिए । गर्मियों में बेल का शरबत अमृत के समान होता है । बेल में विटामिन सी और फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है । इसके सेवन से शरीर में ठंडक बनी रहती है और लू से बचाव होता है । बेल का शरबत पाचन तंत्र को भी दुरुस्त रखता है । इसके लिए हमें रोजाना दिन में दो-तीन बार इस जूस का सेवन खाना खाने से पहले करना चाहिए ।
  • गिलोय में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी मदद करती है । आयुर्वेद के अनुसार गिलोय वात, पित्त और कफ शामक माना जाता है । यह लू में होने वाले तेज बुखार को जल्दी ठीक करती है और शरीर के तापमान को और बढ़ने से रोकती है । बाज़ार में गिलोय का रस आसानी से उपलब्ध है । आप इसे ऑनलाइन भी मंगा सकते है । दो से तीन चम्मच गिलोय रस में समान मात्रा में पानी मिलाकर रोजाना सुबह नाश्ते से पहले इसका सेवन करना चाहिए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here