2022 का विधानसभा चुनाव नजदीक है और सभी राजनैतिक पार्टियां मैदान में है। तो वही कांग्रेस भी अपने खोए हुए अस्तित्व को वापस पाने के लिए व जनता के बीच अपना परचम लहराने के लिए हर वो मुमकिन कोशिश कर रही। जब से कांग्रेस की बागडोर प्रियंका गांधी ने संभाली है। तब से कुछ न कुछ नया करने की कोशिश में लगी हुई है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए नारा दिया “परिवर्तन का संकल्प कांग्रेस ही विकल्प” इस नारे के साथ एक नई उम्मीद लाने के प्रयास में है प्रियंका गांधी। अगर ये कहे की सत्ता में वापसी के लिए महिलाओं और लड़कियों का सहारा ले रही कांग्रेस पार्टी तो गलत नही होगा। तो वही उन्होंने एक और नया नारा दिया है “लड़की हूं लड़ सकती हूं” ये विधानसभा चुनाव से पहले लड़कियों की याद क्यों नही आई कांग्रेस को? हाल में ही प्रियंका गांधी ने कहा की होने वाले विधानसभा चुनाव में सीटो पर 40% की हिस्सेदारी महिलाओं की होगी। और इसी क्रम में वो लगातार कई जनसभाएं भी कर रही है और जगह जगह लड़कियों के लिए मैराथन भी करा रही है। जिसमे वो फ्री में टी शर्ट और इलेक्ट्रिक स्कूटी, मोबाइल आदि देने का वादा कर रही है। महिलाओं के शक्ति प्रदर्शन के लिए मैराथन करा रही है। अपने गिरते राजनैतिक स्तर को पाने के लिए लोगो में मुफ्तखोरी की आदत डलवाकर अपनी सभाओं के लिए भीड़ जुटाना जैसे आम बात हो गई है। और यही काम कांग्रेस का भी हो गया है। बीते सालों में कांग्रेस पार्टी के मुखिया और कार्यकर्ता दोनो घोड़े बेच सो रहे थे। लेकिन जैसे ही देखा चुनाव नजदीक है तो बरसाती मेंढक की तरह सब बाहर आ गए है। और अपने राजनैतिक स्टंट के साथ जनता को लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे।

 

कोविड नियमो का उलंघन और, व्यस्त सड़को पर करा रही है मैराथन।

कोविड नियमो की धज्जियां उड़ाते हुए प्रियंका गांधी सड़को पर मैराथन करा रही जिसके वजह से यातायात भी प्रभावित हो रहा। हाल में ही बरेली में हुए मैराथन के दौरान एक बड़ा हादसा हो गया जिसमे भीड़ ज्यादा होने के कारण भगदड़ मच गई और खराब व्यवस्था के कारण कई लड़कियां घायल भी हो गई। जिसमे कुछ लड़कियों की हालत गंभीर हो गई। और ऐसे लड़कियों को भी सड़कों पर मैराथन के लिए उतारा गया है जिसमे से बहुत वोटर भी नही है। इस घटना की आशंका कही न कही जरूर प्रियंका गांधी को रही होगी क्योंकि व्यस्त सड़को और राजमार्गो पर अगर मैराथन इतनी बड़ी संख्या पर होगी तो भगदड़ और दुर्घटना होना तो लाजमी है।

 

कांग्रेस के नेता महिलाओं की नही करना जानते इज्जत, विधायक रमेश कुमार ने की अभद्र टिप्पणी।

एक तरह कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी महिलाओं के सम्मान की बात करती है तो वही दूसरी तरह उन्ही के पार्टी के नेता महिलाओं के इज्जत को तार तार करते है। कर्नाटक कांग्रेस के विधायक रमेश कुमार ने रेप को लेकर विवादित बयान दिया था। जिसका काफी बवाल मचा था और पार्टी से निष्काषित करने की भी मांग उठी थी। दरअसल, रमेश कुमार ने महिलाओं के साथ रेप को लेकर बेहद आपत्तिजनक बयान दिया था। उन्होंने विधानसभा में कहा था कि, ‘जब बलात्कार होना ही है, तो लेटो और मजे लो। उनके इस विवादित बयान से हंगामा मच गया था और कई नेताओं ने इसकी आलोचना भी की थी।

 

हर जगह से नकार रहे लोग कांग्रेस को।

द राजधर्म की टीम विधानसभा चुनाव के कवरेज के लिए लगातार ग्राउंड रिपोर्ट कर रही है। और लोगो से उनका मत जानने के लिए गली गली और गांव गांव टीम पहुंच रही। जनता से बात करके पता चलता है की कांग्रेस और सपा को लोग नकार रहे है। उनसे अगर पूछा जाए की प्रियंका गांधी भी इस बार चुनाव मैदान में है तो लोगो का जवाब होता है कौन है? ये प्रियंका गांधी क्या ये सिर्फ चुनाव के वक्त ही जनता के पास आते है। इससे पहले कहा थे ये लोग। और यही हाल कुछ समाजवादी पार्टी का भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here