बुधवार को खेला गया लखनऊ और केकेआर के बीच मुकाबला इस पूरे टूर्नामेंट का सबसे रोमांचक मुकाबला था। एक ऐसा मुकाबला जिसने सभी की सांसे अटका रखी थी। लखनऊ की टीम ने 210 रन बनाय तो केकेआर की टीम भी पीछे नहीं रही और उसने भी पीछा करते हुए 208 रन बना दिए। एक समय तो केकेआर लखनऊ की टीम से काफी आगे दिख रही थी लेकिन रिंकू शर्मा के आउट होते ही पूरा मैच पलट गया। इस हार के साथ ही केकेआर का सफर इस टूर्नामेंट से खत्म हो गया वही लखनऊ ने अपनी जगह पक्की कर ली प्लेऑफ में। अब बाकी दो पायदानों के लिए राजस्थान रॉयल्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली कैपिटल्स, पंजाब किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच कड़ी टक्कर होगी। ये सारी टीमें अपना 100 प्रतिशत देंगी प्लेऑफ में पहुंचने के लिए। आप को बता दे की आईपीएल के इस सीजन में अभी तक 66 मैच खेले गए हैं जिसमें सिर्फ गुजरात और लखनऊ की टीम ही प्लेऑफ में जगह बना पाई हैं,आपको ये भी बता दे की ये दोनो ही टीमें इसी सीजन में आईपीएल में जुड़ी है यानी दोनो ही टीम नई है। लीग स्टेज के अगले चार मैचों के जरिए दो अन्य टीमों के भविष्य का फैसला होगा क्योंकि ये चार मुकाबले तय करेंगे की किसको प्लेऑफ खेलना है और किसको नही। बाकी चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस तो पहले ही बाहर हो चुकी थी और फिर केकेआर भी कल यानी बुधवार के दिन अपने आखरी मुकाबले में हारने के बाद बाहर हो गई। इस सीजन अगर 2 टीमों (चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस) को छोड़ दिया जाय तो बाकी टीमों ने अच्छा प्रदर्शन किया है और यही वजह रही है की अभी तक प्लेऑफ की 4 टीमें तय नहीं हो पाई है।

 

लखनऊ सुपर जाएंट्स की धमाकेदार बैटिंग

 

लखनऊ सुपर जाएंट्स ने जिस तरह से इस मुकाबले में बैटिंग का प्रदर्शन दिखाया है वो पूरे आईपीएल इतिहास में किसी टीम ने नही दिखाया। लखनऊ सुपर जाएंट्स ने पहले बैटिंग करने का फैसला किया और ओपनिंग करने उतरी डीकॉक और केएल राहुल की जोड़ी। इन दोनो ने ही पारी का आगाज किया और इन दोनो ने ही खत्म भी किया। मतलब लखनऊ सुपर जाएंट्स का एक भी विकेट नही गिरा पाय कोलकाता के गेंदबाज। 2 बार मौके भी मिले तो फिल्डर के गलती के वजह से वो मौका भी हाथ से निकल गया। डिकॉक ने शानदार बैटिंग का नजारा पेश किया और अकेले 140 रनों की पारी खेल डाली,उन्होंने इस पारी को खेलने के लिए 70 गेंद खेले। इस पारी में उन्होंने 10 बेहतरीन चौके लगाए तो वही 10 शानदार छक्के भी शामिल थे। वही दूसरे छोर पर उनका साथ दे रहे कप्तान केएल राहुल ने भी 51 गेंदों में शानदार 68 रन बनाय जिसमे 3 चौके और 4 शानदार छक्के शामिल थे। इन दोनो बल्लेबाज़ों ने आखरी तक खेला और टीम को 210 तक पहुंचाया बिना एक विकेट गिरे। ये आईपीएल इतिहास की सबसे बड़ी ओपनिंग साझेदारी है। इसके पहले कभी इतनी बड़ी साझेदारी किसी ने नहीं की है। जिस तरह से दोनो बल्लेबाज़ों ने बैटिंग की है उससे बाकी टीमें जो प्लेऑफ में पहुंचेंगी वो दहशत में होंगी। अगर बात करे केकेआर की बॉलिंग की तो इस मैच में पूरी तरह से फ्लॉप साबित हुई,एक बॉलर एक विकेट नही निकाल पाया। ये बहुत ही शर्मनाक रिकॉर्ड केकेआर की टीम के साथ जुड़ा, जो वो आगे नहीं दोहराना चाहेगी। केकेआर की तरफ से उमेश यादव ने 4 ओवर फेके जिसमे उन्होंने 34 रन दिए लेकिन एक भी सफलता उनके नाम नहीं रही। वही टीम साउदी ने अपने 4 ओवर के कोटे से पूरे 57 रन लुटाय। सुनील नरेन को भले ही विकेट न मिली हो लेकिन उन्होंने बल्लेबाजों पर अंकुश लगा के रखा, उन्होंने अपने 4 ओवर में 27 दिए। जो इस मैच का सबसे बढ़िया बॉलर रहा। वही चक्रवर्ती की भी पिटाई हुई और उन्होंने 4 ओवर में 38 रन दिए। रसेल जब ओवर करने आय तो ऐसा लगा था की शायद टीम को कोई विकेट मिल जाय लेकिन उनको भी नही मिला और उन्होंने 3 ओवर में 45 रन लुटाय। विकेट न मिलने के वजह से बॉल नीतीश राणा को भी पकड़ाई गई और उन्होंने 1 ओवर कराए जिसमे उन्होंने 9 रन दिए।

 

केकेआर की भी अच्छी बैटिंग

 

211 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी केकेआर की शुरुआत भले ही खराब रही हो लेकिन टीम ने जिस तरह से उतने बड़े स्कोर का पीछा किया वो काबिले तारीफ था। केकेआर का पहला विकेट वेंकटेश के रूप में शून्य पर ही गिर चुका था उसके बाद से लगा था टीम दबाव में आ जाएगी और टीम आई भी,वेंकटेश के बाद अभिजीत तोमर भी तब आउट हो गए जब टीम का स्कोर मात्र 9 रन था। अब 9 रनों पर केकेआर के दोनो ओपनर वापस जा चुके थे। फिर पारी को नीतीश राणा और कप्तान अय्यर ने संभाला। दोनो के बीच एक अच्छी साझेदारी पनप रही थी तभी राणा आउट हो गए लेकिन राणा ने आउट होने के पहले 22 गेंदों पर 42 रन बनाय जिसमे 9 चौके शामिल थे। राणा के जाने के बाद अय्यर और सैम बिलिंग्स के बीच एक और साझेदारी पनपी लेकिन तब अय्यर जल्दीबाजी के चक्कर में कैच आउट हो गए। उन्होंने शानदार 29 गेंदों में 50 रनों की पारी खेली जिसमे 4 चौके और 3 बेहतरीन छक्के शामिल थे। अय्यर के जाने बाद बिलिंग्स भी ज्यादे देर तक नही टिक पाय और वो 24 गेंदों पर 36 रनों की पारी खेली जिसमे 2 चौके और 3 छक्के शामिल थे। बिलिंग्स के आउट होने के बाद ऐसा लगा की केकेआर की टीम इस मैच को आसानी से हार जाएगी। लेकिन अभी रिंकू सिंह नाम का तूफान आना बाकी था। रिंकू सिंह ने 15 गेंदों पर 40 रनों की बेहतरीन पारी खेल दी। वो लगभग टीम को जीता ही चुके थे लेकिन वो कैच आउट हो गए और टीम हार गई। रिंकू शर्मा ने एक ऐसी आंधी लाई की सब कोई उनकी तारीफ करने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here