मुलायम सिंह यादव के साढ़ू प्रमोद गुप्ता ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा की अखिलेश यादव मुलायम सिंह यादव को कैद करके रखते है। आगे कहा की समाजवादी विचारधारा के जितने भी लोग थे उन लोग को निकाल के गैर समाजवादी विचारधारा के लोग जो मुलायम सिंह यादव की गलियां देते है उनको अंदर कर लिया। जुआ खेलने वाले, सट्टा लगाने वाले, कब्जा कराने वाले लोगो को पार्टी में लाया जा रहा है। तो ऐसे में समजवादी पार्टी की विचारधारा कहा जायेगी। नेताजी को कैद करके रखा है नेताजी जी मिलने भी नहीं दिया जाता है कहते है नेता जी सो रहे है, आज नेताजी की पोजिशन बहुत खराब है। और अखिलेश यादव घड़ियाली आसू बहा रहे है। अगर कार्यालय पर ले जाते है तो अपने साथ ही ले जाते है। आपने देखा 22 तारीख को उनके जन्मदिन पर कैसे उनसे माइक छीन लिया जाता है। उनको बोलने नही दिया गया। आगे प्रमोद गुप्ता ने कहा की अपने पिता मुलायम सिंह यादव के अलावा अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव को भी अखिलेश यादव प्रताड़ित करते है। इस तरह के कई और आरोप प्रमोद गुप्ता ने अखिलेश यादव पर लगाए।

 

सपा छोड़ बीजेपी का दामन थामा।

 

प्रमोद गुप्ता अखिलेश यादव से काफी नाखुश थे उसकी वजह से वो समाजवादी पार्टी को छोड़ के भारतीय जनता पार्टी का दामन धाम लिया आपको बता दे की प्रमोद गुप्ता औरैया जिले के विधूना क्षेत्र से विधायक रह चुके है। आज भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ली लिए कहा की जहा समाजवादी विचारधारा का हनन किया जा रहा जहा गुंडों और मवालियो को संरक्षण दिया जा रहा ऐसी पार्टी में रह कर क्या ही मतलब। आगे वो भारतीय जनता पार्टी के नीतियों और सरकार से प्रभावित होकर भाजपा में शामिल हो गए।

 

कुछ दिन पहले मुलायम सिंह यादव की बहू ने भाजपा का दामन थामा।

बुधवार को अपर्णा बिष्ट यादव ने आज दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी का सदस्यता ग्रहण किया। समाजवादी पार्टी के लिए ये बड़ा नुकसान साबित हो सकता है। आपको बता दे कि अपर्णा सिंह यादव लखनऊ कैंट से 2017 में समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ी थी जिसमे उनको हार मिली थी। लेकिन भारतीय जनता पार्टी और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नीतियों से प्रभावित होकर भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया।

 

मुलायम सिंह के समधी भी सपा छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे।

 

आपको बता दे की कुछ ही दिन पहले मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव भी समाजवादी पार्टी को छोड़ कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे। हरिओम यादव शिकोहाबाद से वर्ष 2002, 2012 और 2017 में सिरसागंज सीट से विधायक रह चुके हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा की प्रचंड लहर के दौरान 2017 में फिरोजाबाद जिले की एक मात्र सिरसागंज सीट ही समाजवादी पार्टी बचा पाई थी। लेकिन अब रामगोपाल यादव से मतभेदों के कारण सपा विधायक का टिकट कटना तय माना जा रहा है। जिसके बाद विधायक ने भाजपा ज्वाइन कर ली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here