आईपीएल अब उस समय पर आ पहुंचा है जहा सारी टीमें अपनी पूरी जान लड़ा रही है प्लेऑफ में पहुंचने के लिए। लेकिन आईपीएल के दर्शकों और खास कर मुंबई इंडियंस के फैंस के लिए बुरी खबर है की मुंबई की टीम इस दौड़ से बाहर हो चुकी है यानी अब मुंबई की टीम प्लेऑफ में नही पहुंच सकती। दूसरी तरफ बाकी की 9 टीमें अपनी पूरी जान लड़ाई हुई है प्लेऑफ के लिए। कल लखनऊ और मुंबई के बीच मैच खेला गया जिसमें लखनऊ की टीम ने मुंबई को इस टूर्नामेंट के प्लेऑफ से बाहर का रास्ता दिखा दिया। इस मैच के पहले भी मुंबई अपने पांचों मैच गवा चुकी थी। लखनऊ से मैच हारने के बाद मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने वापसी की कोशिश की उम्मीद जताई है। रोहित ने 200 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए मुंबई को जरूरी शुरुआत देने में नाकाम रहने की पूरी जिम्मेदारी भी खुद पर ली। रोहित शर्मा आईपीएल 2022 में अबतक अपने बल्ले से कोई कमाल नहीं दिखा पाए हैं और बुरे फॉर्म से जूझ रहे है जो एक बड़ा कारण है कि मुंबई आईपीएल 2022 से सबसे पहले बाहर होने वाली टीम बनी। मुंबई के नाम आईपीएल इतिहास का सबसे बुरा रिकॉर्ड भी दर्ज हुआ जिसमे मुंबई अपने शुरुआती 6 के 6 मुकाबले हार गई। ये कोई पहली बार नही हो रहा इसके पहले भी दो बार ऐसा कारनामा हो चुका है जब टीमें अपने 6 मैच लगातार हारी हो। बात 2013 की है जब दिल्ली की टीम ने पहली बार यह कारनामा यानी एक बुरे सपने वाला रिकॉर्ड अपने नाम किया था तब वो अपने छह मैच लगातार हारी थे। उस समय दिल्ली को सिर्फ पूरे सीजन में 3 ही जीत मिली थी जो बेहद शर्मनाक था। इसके बाद 2019 में रॉयल चैलेंज़र्स बैंगलोर ने भी कुछ ऐसा ही रिकॉर्ड अपने नाम किया था। उस समय आईपीएल में आठ टीमों की हिस्सेदारी थी। बैंगलोर की टीम ने 14 मैच खेले थे और उन्हें मात्र पांच मुकाबलों में ही जीत मिल पाई थी और टीम आखरी पायदान पर रही थी।

 

रोहित ने हार की जिम्मेदारी खुद ली

 

कप्तान का मतलब होता है की वो मैच हारे या जीते लेकिन टीम के साथ रहे और यही रोहित शर्मा ने कर दिखाया है। उन्होंने मुंबई इंडियंस की हार की जिम्मेदारी खुद ली है। लखनऊ से मैच हारने के बाद रोहित शर्मा ने कहा कि ‘मैं टीम को अच्छी शुरुआत ना दिलाने की पूरी जिम्मेदारी लेता हूं जो वे मुझसे उम्मीद करते हैं। मैं वहां जाने और खेल का आनंद लेने के लिए वापसी करुंगा और ऐसा मैं सालों से कर रहा हूं। यह दुनिया का अंत नहीं है, हम पहले भी वापसी कर चुके हैं और हम फिर से वापसी करने की कोशिश करेंगे।’ रोहित ने अपना दुःख व्यक्त भी किया कि मुंबई लाइनअप को बड़ा स्कोर का पीछा करने में बड़ी साझेदारियां नहीं मिलीं, ठीक वैसे ही जैसे राहुल ने लखनऊ की पारी के दौरान किया था। आईपीएल 2022 की 6 पारियों में रोहित ने 19 की औसत से सिर्फ 114 रन बनाए हैं जो उनके लिए एक बुरे सपने जैसा है। रोहित का फॉर्म सिर्फ मुंबई के लिए चिंता का विषय नहीं है बल्कि टीम इंडिया के लिए भी है। लेकिन जिस तरह से रोहित ने हार की जिम्मेदारी अपने सर पर लिया वो धोनी का याद दिलाता है क्योंकि महेंद्र सिंह धोनी अक्सर मैच जीतने के बाद किसी दूसरे को श्रेय देते थे और हारने के बाद खुद फ्रंट से लीड करते थे। इसी लिए रोहित को भी धोनी जैसा कप्तान माना जाता है।

 

मुंबई के हार के महत्वपूर्ण कारण

 

मुंबई के हार के सिर्फ एक ही कारण नही है बल्कि कई कारण है। मुंबई इंडियंस ने सबसे बड़ा दाव ईशान किशन पर रुपए खर्च करके लगाया था जो असफल रहा है अभी तक। दिल्ली की टीम के कोच शेन वॉटसन ने तो ईशान किशन को आड़े हाथों लिया। 15.25 करोड़ रुपये की राशि खर्च करने की आलोचना करते हुए कहा कि यह प्रतिभाशाली सलामी बल्लेबाज इतनी राशि में खरीदने लायक नहीं था। वाटसन ने चोटिल जोफ्रा आर्चर को इतनी बड़ी राशि में खरीदने की भी आलोचना की। उन्होंने कहा की जोफरा 8 करोड़ लायक नही थे। अभी आर्चर चोटिल है और आईपीएल से बाहर है। वाटसन ने कहा कि ‘मुंबई इंडियंस तालिका में निचले स्थान पर है, मुझे इसमें कुछ हैरानी नहीं हो रही क्योंकि उन्होंने नीलामी में हैरानी भरे फैसले लिए जो उन्हें नही लेना चाहिए था। आर्चर के बारे में पता नहीं था कि वह खेलने आएगा या नहीं। वह काफी समय से क्रिकेट नहीं खेला है। टीम के कुछ फैसले खराब रहे।’ जिसकी भरपाई मुंबई को हार कर करनी पड़ रही है।

नही चल रहे गेंदबाज भी,मुंबई के बॉलर्स भी इस सीजन में कुछ नही कर पा रहे है ना तो उनके स्पिनर कुछ कमाल कर पा रहे है और नाही उनके तेज गेंदबाज कुछ कर पा रहे है। यही वजह है की विपक्षी टीम एक बड़ा स्कोर बना देती है जिसके बाद मुंबई के बल्लेबाज प्रेशर में आ जाते है और मुंबई अपना मैच हार जाता है।

 

टीम से कुछ बड़े नाम है जो इस सीजन अलग हो गए,कही न कही मुंबई को सबसे ज्यादा हार्दिक पंड्या और कृणाल पांड्या की कमी सबसे ज्यादा खल रही है। हार्दिक तो अलग ही फॉर्म में चल रहे है और वो मुंबई में होते तो ऐसा मुंबई का हाल ना होता। वही हार्दिक के भाई कृणाल भी अपने टीम लखनऊ के लिए अच्छा कर रहे है। मुंबई को इन दोनो भाईयो की कमी कही न कही खल रही है और आगे भी खलेगी। मुंबई की ओपनिंग तब बहुत अच्छी थी जब रोहित शर्मा के साथ क्वांटन डिकॉक उतरते थे लेकिन इस बार वो भी मुंबई की टीम का हिस्सा नहीं है और वो लखनऊ के लिए अभी अच्छी शुरुआत देने में व्यस्थ है। इन प्लेयर्स की वजह से भी मुंबई कही न कही इस सीजन में बहुत पिछड़ चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here