सीएम योगी ने कहा कि सभी लोगों को अपनी धार्मिक विचारधारा के अनुसार अपनी उपासना पद्धति को मानने की स्वतंत्रता है। इसके लिए माइक और साउंड सिस्टम का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित किया जाए कि साउंड सिस्टम की आवाज उस धार्मिक परिसर से बाहर न जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि साउंड सिस्टम के इस्तेमाल की अनुमति केवल इसी शर्त पर दी जा सकती है कि इससे अन्य लोगों को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए। इसके साथ ही नए धार्मिक स्थलों पर माइक और साउंड सिस्टम लगाने की अनुमति न दी जाए। उन्होंने प्रदेश के सभी पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से इस गाइडलाइन का सख्ती से पालन करवाने का निर्देश दिया।

 

गाइडलाइन का पालन न करवाने पर होगी कड़ी कार्रवाई

 

सीएम योगी सोमवार को लखनऊ में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अधिकारियों से प्रदेश की कानून-व्यवस्था की डिटेल पूछी। इसके बाद धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर को लेकर नई गाइडलाइन जारी की। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी दी कि गाइडलाइन का पालन न करवाने पर दोषी अफसरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बताते चलें कि देशभर में इन दिनों धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर्स पर होने वाले शोर को लेकर बहस छिड़ी हुई है। लोगों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने भी लाउडस्पीकर के इस्तेमाल को लेकर स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी कर रखे हैं। इसके बावजूद एक समुदाय की दबंगई की वजह से राज्यों की सरकारें लाउडस्पीकर के दुरुपयोग पर लगाम लगाने में विफल रही हैं। जिसके चलते दूसरे समुदायों के लोग भी प्रतिक्रिया में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे ध्वनि प्रदूषण के साथ ही आपसी सदभाव भी खंडित हो रहा है।

 

आने वाला है ईद, अक्षय तृतीया जैसा त्यौहार अभी रमजान का महीना चल रहा है।

 

इसके बाद ईद और अक्षय तृतीया जैसे त्यौहार आने वाले हैं। इन त्यौहार के मौके पर सड़कों पर बड़ी चहल-पहल होती है। दोनों पर्व 3 मई को संभावित हैं। इस दौरान विधि व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न न हो, इसको लेकर विशेष तौर पर कार्यक्रम तैयार किए जा रहे हैं। करीब दो सप्ताह पहले से ही यूपी सरकार इसकी तैयारी में जुट गई है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कानून व्यवस्था की समीक्षा की। सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को सतर्क रहने और सावधानी बरतने के निर्देश दिए। योगी ने साफ किया है कि प्रदेश में सौहार्द्र, शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। अव्यवस्था और अराजकता फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। थानाध्यक्ष से लेकर एडीजी तक को अगले 24 घंटे के भीतर अपने-अपने क्षेत्र के धर्मगुरुओं और समाज के प्रतिष्ठित लोगों के साथ संवाद बनाया जाए।

 

पुलिस अधिकारियों की 4 मई तक की छुट्टी रद्द

 

उत्तर प्रदेश के सीएम ने आगे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को 24 घंटे ड्यूटी पर रहने को कहा। उन्होंने सभी पुलिस अधिकारियों की 4 मई तक की छुट्टी रद्द कर दी और 24 घंटे के भीतर छुट्टी पर रहने वालों को शामिल होने का आदेश दिया। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से ड्रोन तैनात करने और संवेदनशील इलाकों में हर एक पल पर नजर रखने को भी कहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ का बयान विशेष रूप से गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, झारखंड, पश्चिम बंगाल और दिल्ली राज्यों में रामनवमी जुलूस और हनुमान जयंती जुलूस पर इस्लामवादियों द्वारा हमला किए जाने के बाद आया है। इस्लामवादियों ने जुलूस और हिंदू प्रतिभागियों पर पथराव और कांच की बोतलों पर पथराव किया और क्षेत्रों में शांति और सद्भाव को बाधित किया। उन्होंने कुछ हिस्सों में हिंदुओं के वाहनों और घरों को भी आग के हवाले कर दिया। फिलहाल यूपी पुलिस को ईद और अक्षय तृतीया से पहले पैदल गश्त करने और पुलिस रिस्पांस व्हीकल को सक्रिय रखने को कहा गया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने शरारती बयान देने वालों से सख्ती से निपटने के आदेश देते हुए कहा, ‘स्थानीय जरूरतों को ध्यान में रखते हुए सभी जरूरी प्रयास किए जाएं, ताकि हर त्योहार शांति और सौहार्द से हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here