पीएम नरेंद्र मोदी देश के करोड़ों लोगों के न सिर्फ जनप्रतिधि है, बल्कि उनके प्रेरणा स्रोत भी है ‌। तो आइए पीएम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 72वें जन्मदिन पर उनसे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातों को जानते है –

पीएम नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर ये खास तैयारियां 

पीएम नरेंद्र मोदी आज 17 सितंबर 2022 को अपना 72 वां जन्मदिन मनाया जा रहा है और बीजेपी ने उनके जन्मोत्सव को खास बनाने की खास तैयारियां भी की है । पीएम मोदी का जन्मोत्सव 17 सितंबर से लेकर 2 अक्टूबर यानी गांधी जयंती तक मनाया जाएगा । इस दौरान बीजेपी द्वारा ” सेवा ” अभियान के तहत सभी जिलों में ” अनेकता में एकता ” उत्सवों का आयोजन किया जा रहा है । बीजेपी के इस सेवा अभियान के दौरान रक्तदान शिविर, जल संरक्षण पर जागरूकता कार्यक्रम और स्वच्छता अभियान जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे । भारत के 14 वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में फिर साल 2019 में बीजेपी का प्रभावशाली नेतृत्व किया । साल 2014 में बीजेपी चुनाव में बहुमत से विजयी हुई थी और इसका श्रेय मोदी को ही जाता है । देश का 14 वां प्रधानमंत्री बनने से पहले पीएम मोदी 7 अक्टूबर 2001 से 22 मई 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके है ।

 

पीएम नरेंद्र मोदी का शुरुआती जीवन

पीएम नरेंद्र दामोदर दास मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर में हुआ था । दामोदर दास मूलचंद मोदी और हीराबेन की पांच संतानों में दूसरी संतान नरेंद्र मोदी महज 8 साल की उम्र में ही आरएसएस के संपर्क में आ गए थे, फिर 1970 में 20 साल की उम्र में वे पूरी तरह से आरएसएस के प्रचारक बन गए । आरएसएस से लंबे समय तक जुड़े रहने के बाद साल 1985 में मोदी जी बीजेपी में शामिल हुए और अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की । प्रधानमंत्री बनने से पहले गुजरात की जनता ने साल 2001 से 2014 तक लगातार चार बार उन्हें अपने मुख्यमंत्री के तौर पर चुना ।

गुजरात राज्य के मेहसाना जिले के एक छोटे शहर वडनगर में नरेंद्र दामोदरदास मोदी का जन्म हुआ था । उस समय ये बॉम्बे में था जो बाद में गुजरात का हिस्सा बना । नरेद्र मोदी के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी और वे अपने 5 भाई-बहनों में तीसरे नंबर के है । उनके पिता की रेलवे स्टेशन पर चाय की दुकान थी और स्कूल से घर आने पर वे अक्सर अपने पिता की मदद के लिए चाय बांटने का काम करते थे । स्टेशन पर आने वाले सैनिकों को देखकर मोदी के मन में हमेशा रहता था कि वे देश के लिए कुछ करे । बचपन के उनके कई किस्से हैं और उन्होंने खुद बताया कि वे काफी शरारती हुआ करते थे । नरेंद्र मोदी ने अपने बचपन के दिनों में काफी कठिनाइयों का सामना किया है लेकिन अपने चरित्र और साहस से उन्होंने सभी चुनौतियों का सामना किया ।

पीएम नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी का विवाह

18 साल की उम्र में उनके माता-पिता ने उनकी शादी जसोदाबेन से कर दी थी , जो मोदी नहीं करना चाहते थे । शादी के दो सालों के बाद ही उन्होंने जसोदाबेन की सहमति से घर छोड़़ दिया था । नरेंद्र मोदी की शुरुआती शिक्षा वडनगर के स्थानीय स्कूल से हुई । साल 1967 तक उनकी हायर सेकेंड्री पढ़ाई हो चुकी थी और इसके बाद उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी और वे वैवाहिक जीवन आगे नहीं बढ़ा सकते थे इसलिए उन्होंने घर छोड़ दिया ।

पीएम मोदी का राजनैतिक सफर

साल 1987 में नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद रैंक के माध्यम से तेजी से आगे बढ़ते गए । सभी जानते थे कि नरेंद्र मोदी एक बुद्धिमान व्यक्ति रहे हैं और उन्होंने व्यवसायों, छोटे सरकारी और हिंदू मूल्यों के निजीकरण को हमेशा बढ़ावा ही दिया । इसी साल वे भाजपा के गुजरात ब्रांच के महासचिव चुने गए थे । साल 1990 में एल के आडवानी की अयोध्या रथ यात्रा के संचालन में मदद करने के बाद पार्टी में नरेंद्र मोदी की क्षमताओं को मान्यताएं मिली और उनका पहला राष्ट्रीय स्तर का राजनीतिक कार्य बना । साल 1991-92 में मुरली मनोहर जोशी के साथ एकता यात्रा भी की और इसी दौरान आतंकियों के धमकाने पर भी नरेंद्र मोदी जोशी जी के साथ कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने पहुंच गए थे । साल 2001 में नरेंद्र मोदी ने पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ा था और राजकोट में 2 सीटों से जीत हासिल की थी ।

फिर साल 2019 लोकसभा चुनाव में भी नरेंद्र मोदी ने भारी बहुमत हासिल की और इस बार अब तक उन्होंने तीन तलाक पर विशेष कानून और जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया । हालांकि मोदी जी के बारे में बहुत सारी हास्य बातें भी सोशल मीडिया पर लिख दी गईं जिसमें नरेंद्र मोदी जोक्स और कुछ उनके वीडियोज को तोड़-मरोड़कर दिखाया गया लेकिन उनके सत्ता में बैठे होने के कारण कोई उन्हें ऑफिशिय़ली कुछ नहीं कह पाता है ।

पीएम नरेंद्र मोदी और गुजरात में सांप्रायिक हिंसा

पीएम नरेंद्र मोदी ने साल 2002 में उपचुनाव जीतने के 3 दिन बाद गुजरात में सांप्रायिक हिंसा की शुरुआत हुई । इसके परिणामस्वरूप 58 लोगों की हत्या कर दी गई थी । उस सयम गोधरा के पास सैकड़ों यात्रियों से भरी एक ट्रेन में आग लगा दी थी जिसमें ज्यादातर हिंदू यात्री ही थे । इस घटना से मुस्लिमो के विरोध में ये हुई थी इससे ये दंगा पूरे गुजरात में फैल गया और फिर ये खबर आई कि इसके पीछे नरेंद्र मोदी का हाथ था । गुजरात में सांप्रदायिक दंगे होने से लगभग 2000 लोगों की जान गई थी । इस दौरान राज्य में मोदी की ही सरकार थी । इसके कारण आक्रोशित लोगों के हल्ला मचाने से मोदी को इस पद से इस्तीफा देना पड़ा था । फिर साल 2009 में इस संबंधित सुप्रीमकोर्ट में बैठक हुई और सभी जांच को अच्छे से करने का आदेश आया ।

लगभग 1 साल तक जांच चली फिर इस मामले में नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट मिली कि इसमें उनका कोई हाथ नहीं था । हालांकि साल 2013 में इस जांच दल के ऊपर आरोप लगाया गया था कि इस बेंच ने मोदी के खिलाफ मिले सबूतों को छिपाया गया है । बता दें जब नरेंद्र मोदी पर केस चल रहा था तब उन्हें देश के बाहर जाने की इजाजत नहीं थी और अमेरिका ने तो उनके ऊपर रोक लगा थी लेकिन आज आलम ये है कि पीएम मोदी को कई बार सम्मान के साथ बुलाया गया और पहली बार बराक ओबामा ने उन्हें अमेरिका आने का न्यौता दिया था ।

पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में दिलचस्प किस्से

  • नरेंद्र मोदी बचपन से ही भारतीय आर्मी में शामिल होना चाहते थे और उन्होने कोशिश भी की थी लेकिन वित्तिय स्थिति अच्छी नहीं होने के काण उन्हें एडमिशन नहीं मिल पाया था ।
  • 18 साल की उम्र में नरेंद्र मोदी ने घर छोड़ दिया था और वे भारत के अलग-अलग हिस्सों में यात्रा करने के लिए निकल पड़े थे ।
  • प्रधानमंत्री मोदी ने अपना अधिकारिक निवास अपने किसी भी परिवार के साथ शेयर नहीं किया है । उनका कहना है कि ये उनके काम करने का स्थान है यहां वे घूमने आ सकते हैं लेकिन रहने नहीं ।
  • नपीएम नरेंद्र मोदी स्वामी विवेकानंद जी को बहुत मानते हैं और उनके महान अनुयायी भी है । इसके अलावा वे अटल बिहारी बाजपेयी को भी बहुत मानते है ।
  • बराक ओबामा के बाद नरेंद्र मोदी के ट्विटर पर दुनिया में सबसे ज्यादा फॉलोवर्स है । इनके लगभग 12 मिलियन से ज्यादा फॉलोवर्स हैं और बता दें कि बराक ओबामा के पीएम मोदी बहुत अच्छे दोस्त है ।
  • जब नरेंद्र मोदी बीजेपी में सिर्फ एक कार्यकर्ता थे , तब उन्होंने सफाई से लेकर खाना बनाने तक का सभी काम खुद ही किया है । इंटरनेट पर उनकी कई तस्वीरें उपलब्ध है ।
  • नरेंद्र मोदी स्वामी विवेकानंद जी को बहुत मानते हैं और उनके महान अनुयायी भी हैं। इसके अलावा वे अटल बिहारी बाजपेयी को भी बहुत मानते है‌ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here