दिन रविवार हो तो रोमांचक मुकाबले का इंतजार सभी को रहता है। कल यानी रविवार को वही हुआ। इंडियन प्रीमियर लीग 2022 रविवार यानी 10 अप्रैल की शाम लखनऊ सुपर जायंट्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच रोमांचक मुकाबला हुआ जो आखिरी ओवर तक गया। राजस्थान ने लखनऊ को 166 रनों का टारगेट दिया था, लेकिन लखनऊ इसे पार करने में असमर्थ रही,एक समय लगा की मैच लखनऊ के हाथ में पूरी तरह से आ चुका है लेकिन अंत का रिजल्ट कुछ और ही रहा। मैच आखिरी ओवर तक गया और लखनऊ को 15 रनों की जरूरत थी। लेकिन युवा कुलदीप सेन ने आखिरी ओवर में कमाल दिखाया और मार्कस स्टोइनिस जैसे बल्लेबाज के सामने 15 रन नहीं बनने दिए। मार्कस स्टोइनिस तब धमाकेदार पारी खेल रहे थे जब लखनऊ इस मुकाबले में पूरी तरह से बाहर हो चुकी थी,लोगो को ये लग चुका था की यहा से तो हार ही मिलनी है। रोमांचक मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने लखनऊ सुपर जायंट्स को 3 रनों से करारी हार दी। लखनऊ सुपर जायंट्स को आखिरी दो ओवर में 34 रनों की जरूरत थी। जो छोटा लक्ष्य नही माना जाता। लखनऊ के मार्कस स्टोइनिस और आवेश खान क्रीज़ पर थे, ऐसे में चुनौती थी कि कैसे स्कोर को कम किया जाए। 19वें ओवर में राजस्थान की ओर से प्रसिद्ध कृष्णा बॉल कराने आए पर उन्होंने 19 रन लुटवा दिए। उन्होंने सामने वाली टीम को मौका दिया और इसका पूरा फायदा मार्कस स्टोइनिस ने खूब उठाया। मार्कस स्टोइनिस इस ओवर में दो छक्के और एक चौका जमा दिया और अपनी टीम को मैच में वापस लाए। लखनऊ को आखिरी ओवर में 15 रनों की जरूरत थी और राजस्थान की ओर से कुलदीप सेन ने मोर्चा संभाला। इस मैच का रोमांच पूरा विश्व देख रहा था और सबकी नजरें मार्कस स्टोइनिस पर टिकी हुई थी। इसके पहले राजस्थान के लक्ष्य का पीछा करने उतरी लखनऊ की टीम की शुरूआत अच्छी नही रही।
पहली ही बॉल पर कप्तान केएल राहुल क्लीन बोल्ड हो गए। ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है की पहली ही गेंद पर कोई आउट होकर वापस चला जाए। इसी ओर में के. गौतम भी अपना विकेट गंवा बैठे। ज्यादा देर वह भी नही टिक पाए। लखनऊ का हाल ऐसा हुआ कि शुरुआती दस ओवर में टीम अपने चार विकेट गंवा चुके थी,और टीम रन बनाने के लिए संघर्ष करते हुए दिख रही थी। लखनऊ के लिए इस मैच में केएल राहुल, के. गौतम, जेसन होल्डर और आयुष बदोनी दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाए। जो जीत से दूर ले गया लखनऊ की टीम को । क्विंटन डि कॉक एक बार फिर एक छोर संभाले हुए थे, जिन्होंने 39 रनों की पारी खेली। आखिर में आकर मार्कस स्टोइनिस ने 17 बॉल में 38 रन बनाए, इस दौरान उन्होंने दो चौके और 4 छक्के जमाए। एक वक्त पर ऐसा लगा कि वह अपनी टीम को मैच जिता देंगे, लेकिन आखिरी ओवर में 15 रन बनाना मुश्किल हुआ। और राजस्थान मात्र 3 रन से मैच जीत गई। इसके पहले राजस्थान ने भी बैटिंग करके साधारण सा स्कोर दिया था। राजस्थान रॉयल्स को इस मुकाबले में तेज़ शुरुआत मिली और एक बार फिर जोस बटलर-देवदत्त पडिक्कल ने पहले विकेट के लिए 42 रन जोड़े। लेकिन इसके बाद टीम को फटाफट झटके लगे और कप्तान संजू सैमसन, देवदत्त पड्डिकल, रासी दुसेन भी जल्दी चलते बने। बटलर हर मैच में अच्छा ही खेलते जा रहे है। वो कही न कही राजस्थान के मुख्य बैटर बन चुके है। राजस्थान रॉयल्स के लिए असली धमाल शिमरोन हेटमायर ने मचाया, जिन्होंने अपना कैच ड्रॉप होने के बाद ऐसा गियर बदला कि लखनऊ के पास उनका कोई जवाब नहीं था। 36 बॉल में हेटमायर ने 59 रनों की पारी खेली, इसमें एक चौका और 6 शानदार छक्के शामिल थे। शिमरोन हेटमायर के अलावा रविचंद्रन अश्विन ने भी 23 बॉल में 28 रन बनाए, जिसमें 2 छक्के भी शामिल रहे। इन्हीं पारियों के दमपर राजस्थान रॉयल्स 165 के स्कोर तक पहुंच पाई।

 

बिना विकेट गिरे क्यों लौटे रविचंद्रन अश्विन

 

ऐसा आईपीएल में पहली बार हुआ की कोई प्लेयर दर्द से क्रिकेट को बीच में छोड़ कर ग्राउंड से बाहर चला गया। वैसे रविचंद्रन अश्विन इंडियन प्रीमियर लीग के इतिहास में रिटायर्ड आउट होने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं। अश्विन ने रविवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ यह अनोखी उपलब्धि हासिल की। मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स के लिए छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे अश्विन पारी के 19वें ओवर की दूसरी गेंद के बाद पवेलियन लौट गए। रविचंद्रन अश्विन ने 23 गेंदों पर 28 रनोंं का योगदान दिया, जिसमें दो छक्के शामिल थे। ये पारी तब आई जब टीम को सबसे ज्यादा इस पारी की जरूरत थी। अश्विन बल्लेबाजी के दौरान थकान महसूस कर रहे थे, इसलिए उन्होंने टीम के हित में युवा खिलाड़ी रियान पराग को बैटिंग के लिए चांस देना उचित समझा। लेकिन पराग ज्यादा कुछ नहीं कर पाए।

वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर इयान राफेल बिशप ने इस घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त की और इसे शानदार टी20 रणनीति कहा। बिशप ने ट्वीट किया, ‘अश्विन का रिटायर्ड आउट होना शानदार टी20 रणनीति है। टी20 हमें 21वीं सदी में खेल की कल्पना करने के तरीकों पर पुनर्विचार करने के लिए प्रेरित कर रहा है।

 

क्या है नियम?

 

नियम में कहा गया है कि बल्लेबाज रिटायर आउट माना जाएगा यदि वह अंपायर की अनुमति के बिना रिटायर हो जाता है और उसे अपनी पारी को फिर से शुरू करने के लिए विरोधी कप्तान की अनुमति नहीं होती है। अगर ऐसी स्थिति में वापसी नहीं होती है, तो बैट्समैन को ‘रिटायर्ड के रूप में चिह्नित किया जाता है और बल्लेबाजी औसत कैलकुलेट करने में इसे आउट माना जाता है। जो की कल के मैच में अश्विन ने करके सबको चौका दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here