आईपीएल 2022 का 5वा मुकाबला राजस्थान रॉयल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच खेला गया जिसमें राजस्थान रॉयल्स ने सनराइजर हैदराबाद को 61 रनों से करारी मात दिया है। राजस्थान ने अपनी बैटिंग का दम दिखा कर 211 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य दिया,जिसमे हैदराबाद शुरू से ही लड़खड़ा गई। और इसका अंजाम ये हुआ की टारगेट का पीछा करते हुए सनराइजर्स की टीम 7 विकेट खोकर 149 रन ही बना सकी और एक बड़े अंतर से हार का सामना किया। आपको बता दे की इस से पहले राजस्थान रॉयल ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया और उसका फैसला सही भी साबित हुआ। और राजस्थान ने एक लंबा सा स्कोर खड़ा कर दिया,राजस्थान ने 210 रन बनाय 6 विकेट के नुकसान पर। जिसमे खुद कैप्टन संजू सैमसन ने सबसे लंबी पारी खेली और 27 गेंदों पर 55 रन बनाय जिसमे 3 चौका और 5 गगनचुंबी छक्के भी शामिल थे तो वही वहीं देवदत्त पडिक्कल ने 41 रन बनाय जिसमे 4 चौका और 2 छक्का शामिल था, जोस बटलर ने 35रन,3 छक्के और 3 चौके की मदद से बनाय और शिमरॉन हेटमेयर ने नाबाद ताबड़तोड़ 33 रन बनाए। जिसमे 2 चौके और 3 छक्के शामिल थे। इस तरह से सबने अपना अपना योगदान देकर टीम को एक बड़े लक्ष्य तक पहुंचाया। उधर सनराइजर्स की ओर से उमरान मलिक और टी. नटराजन ने दो-दो विकेट लिए और अपना काम किया लेकिन राजस्थान को बड़े रन से रोक नही पाय।
राजस्थान रॉयल ने 61 रन से हैदराबाद को हराया
राजस्थान रॉयल्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को 61 रनों से हरा दिया ये कोई छोटी जीत नही है। 211 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए सनराइजर्स की टीम 7 विकेट खोकर 149 रन ही बना पाई। जो शुरू में हैदराबाद की टीम की स्थिति थी वो बहुत ही बेकार थी, शुरुआत से ही प्रेशर में आ गई थी हैदराबाद की टीम।  एडेन मार्करम ने सबसे ज्यादा नाबाद 57 रनों की बेहतरीन पारी खेली लेकिन अपने टीम को जीत नही दिला पाए। वहीं वॉशिंगटन सुंदर  ने 40 रनों का योगदान दिया। सुंदर की बैटिंग एक रेगुलर बैटर की तरह लग रही थी। राजस्थान की ओर से युजवेंद्र चहल ने सबसे ज्यादा तीन, जबकि प्रसिद्ध कृष्णा और ट्रेंट बोल्ट  ने 2-2 विकेट चटकाए। चहल के गेंदबाजी के आगे घुटने टेकते नजर आई हैदराबाद की टीम। एक समय जब वॉशिंगटन सुंदर जिस अंदाज में बैटिंग कर रहे थे एकदम से रेगुलर बैटर की फिल दे रहे थे। और उन्होंने 14 गेंद पर  40 रन बनाए जिसमे 5 चौका और 2 छक्के शामिल थे। लेकिन टीम के हाथ से तब तक मैच निकल चुका था जब वॉशिंगटन सुंदर अपने बल्लेबाजी से सबको चौकाया लेकिन अपने टीम को जीत नही दिला पाए। एक समय था जब हैदराबाद का स्कोर 55 रन पर 5  विकेट था,उसी समय सनराइजर्स को जीत के लिए 42 बॉल पर 156 रनों की दरकार थी जो एक असंभव सा लक्ष्य था और हुआ भी वही टीम उस स्कोर तक नही पहुंच पाई। अपना पहला ही मैच मैच बुरी तरह से हार गई सन राइजर हैदराबाद लेकिन ये टीम वापसी कर सकती है क्योंकि इस टीम के पास एक से बढ़ के एक प्लेयर है जो किसी भी टीम को चौका सकते है। लेकिन अब इस टीम को अपने अगले मैच के लिए तैयार होना होगा ताकि ये अपनी गलतियों से सीख पाए। इस से पहले राजस्थान ने अपने दोनो ओपनर बटलर और जैशवाल के साथ पारी का आगाज किया जिसमे दोनो ने अलग अलग शॉट्स खेल कर सबको झूमने पर मजबूर किया। उसके बाद खुद कप्तान ने आकर तेज तरार पारी खेली उसके बाद पाडिकल भी पीछे क्यों रहते उन्होंने ने भी सन राइजर के गेंदबाजों की अच्छी खबर ली।
पाडिकल के एक शॉट की बहुत चर्चा
कोई सक नही है की देवदत पाडिकल ने कैसा अच्छा खेला,लेकिन उनके एक शॉट्स जरूर है जिसके चर्चा हो रहे है। जब देवदत पाडिकल गेंदबाजों की खबर ले रहे थे इस दौरान देवदत्त पडिक्कल का एक शॉट सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। 12वें ओवर में नटराजन की पहली गेंद पर  देवदत्त पडिक्कल ने एक गगनचुंबी छक्का मारा, यह शॉट टाटा पंच बोर्ड पर जा लगा। अब टाटा ग्रुप काजीरंगा नेशनल पार्क के संरक्षण हेतु 5 लाख रुपए डोनेट करेगा। टाटा ग्रुप इंडियन प्रीमियर लीग की आधिकारिक स्पॉन्सर है। टूर्नामेंट के आगाज से पहले टाटा ग्रुप ने घोषणा की थी कि यदि किसी बल्लेबाज का शॉट टाटा पंच बोर्ड पर लगता है, तो काजीरंगा नेशनल पार्क को 5 लाख रुपए डोनेट किए जाएंगे।
दोनो टीमों में काफी बदलाव हुए है पिछले साल की तुलना में,सन राइजर के रीढ़ की हड्डी रहे डेविड वार्नर इस साल नही है जो हैदराबाद के लिए कमजोरी बन कर सामने आया,हैदराबाद की शुरुआत ही अच्छी नहीं रही,लगातार अंतराल पर विकेट गिरता रहा जिसके वजह से पहाड़ जैसे लक्ष्य के सामने घुटना टेकना पड़ा। तो वही टीम के मुख्य गेंदबाज को भी नही लिया गया, रशीद खान अपने फिरकी से सबको फसाते है। इसी मैच में एक कैच को लेकर संसय भी बन गया सनराइजर्स हैदराबाद की टीम जब बल्लेबाजी कर रही थी, तब केन विलियमसन की कैच को लेकर कन्फ्यूजन पैदा हुआ। क्योंकि बॉल मैदान पर लगी थी या नहीं, इसको लेकर थर्ड अंपायर को काफी माथापच्ची करनी पड़ी। दरअसल, प्रसिद्ध कृष्णा ने दूसरे ओवर की चौथी बॉल जब डाली तब केन विलियमसन के बल्ले से किनारा लेकर बॉल सीधा संजू सैमसन के हाथ में गई। संजू से कैच छूट गई, लेकिन स्लिप में खड़े देवदत्त पड्डिकल ने उसे तुरंत लपक लिया। हालांकि, यहां पर भी कन्फ्यूजन पैदा हुआ। क्योंकि देवदत्त पड्डिकल ने कैच पकड़ी तो ऐसा लग रहा था कि बॉल ग्राउंड पर लगी है।
। ऐसे में ग्राउंड अंपायर ने इसे थर्ड अंपायर के पास भेजा लेकिन सॉफ्ट सिग्नल आउट का ही दिया। थर्ड अंपायर ने बार-बार रिप्ले देखा और बाद में आउट ही करार दिया। वैसे तो इस तरह का माहौल हर मैच में बनता है लेकिन इस मैच में थोड़ा ज्यादा ही बन गया,अब देखना ये है की इस मैच में हारने के बाद हैदराबाद की टीम अपने अगले मैच में किस तरह से वापसी करती है क्योंकि हैदराबाद की भी टीम एक मजबूत टीम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here