इंडियन प्रीमियर लीग यानी 2022 के 34वें मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने दिल्ली कैपिटल्स को एक हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद 15 रनों से करारी हार दी। 223 रनों के बड़े से लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की टीम 8 विकेट पर 207 रन ही बना सकी। राजस्थान टीम की जीत के हीरो फिर से जोस बटलर ही रहे, जिन्होंने शानदार 116 रनों की पारी खेली। बटलर सभी टीमों पे अकेले भारी पड़ रहे है। आईपीएल हो और कोई ड्रामा न हो अंपायरिंग को लेकर ऐसा हो ही नही सकता है 23 अप्रैल वाले मैच में भी यही देखने को मिला। आपको बता दे कि राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आखिरी ओवर में हुए हाई वोल्टेज ड्रामे, अंपायर से खिलाड़ी उलझे बल्कि कोच तक उलझे, खिलाड़ियों को वापस बुलाने तक का इशारा कर दिया था दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत ने लेकिन मैच खत्म होने के बाद दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत ने अपनी गलती स्वीकार कर ली लेकिन गलती मानने के बाद भी उन्होंने हार के लिए अंपायर को ही जिम्मेदार ठहराया। राजस्थान से मिली 15 रनों की हार के बाद बाद उन्होंने कहा कि अगर यहां तीसरी गेंद नो बॉल होती तो मैच का रिजल्ट कुछ और होता लेकिन ऐसा नहीं हो सका। अब हम आपको बताते है की हुआ क्या था,हुआ ये था कि आखिरी ओवर कर रहे ओबे मैकॉय की तीसरी गेंद को अंपायर द्वारा ‘नो-बॉल’ नही दिया गया जब की साफ दिख रहा था की बाल ने हाइट ज्यादा ली थी और वो पूरी तरह से ने बाल थी। जब उस बाल को नो बाल अंपायर द्वारा नही दिया गया तब पंत अपने खिलाड़ियों को मैदान से बाहर बुलाने लगे। कोच प्रवीण आमरे इशारे से ‘नो-बॉल’ चेक करने को कह रहे थे, आलम ये हुआ की मैच कुछ देर तक रोक देना पड़ा। पंत ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए कहा- मुझे लगता है कि वे पूरे खेल में अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे, लेकिन अंत में पॉवेल ने हमें मौका दिया। मुझे लगा कि नो बॉल हमारे लिए कीमती हो सकती है, लेकिन यह मेरे नियंत्रण में नहीं है। हां, निराश हूं लेकिन इसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं कर सकता। ऋषभ पंत ने थर्ड अंपायर को लेकर भी अपनी भड़ास निकाली और बोला कि थर्ड अंपायर को तो दखल देना चाहिए था उस डिसीजन को लेकर। ऋषभ ने बताया की डगआउट में सारे लोग उदास बैठे हुए थे उस डिसीजन के बाद। उन्होंने अपने कोच को भेजने को लेकर अपनी गलती भी स्विकार की। इतने सारे ड्रामे के बाद मैच का रिजल्ट आया और उसमे दिल्ली हार चुकी थी।

 

दिल्ली की पारी

 

पहाड़ जैसे लक्ष्य का पीछा करने उतरी दिल्ली की शुरुआत एकदम खराब रही। और दिल्ली ने 43 रन के स्कोर पर अपने दो महत्वपूर्ण विकेट खो दिए थे। अभी तक इस आईपीएल में शानदार टच में नजर आ रहे डेविड वार्नर 28 रन बनाकर तो वही सरफराज खान 1 रन बनाकर आउट हो गए। दो विकेट जल्दी गिरने के बाद ऋषभ पंत और पृथ्वी शा ने मिलकर पारी को संभाला। मैच का असली ड्रामा तो आखरी ओवर में ही देखने को मिला। दिल्ली को आखरी ओवर में 36 रन की दरकार थी जो असंभव सा ही था। लेकिन रोवमैन पॉवेल ने ओबेड मैकॉय की पहली तीन गेंदों पर तीन छक्के जड़ दिए और दिल्ली को जीत के करीब ले जाने लगे लेकिन अभी भी आसान नहीं था। खास बात यह थी कि तीसरी गेंद हाईट के चलते नो-बॉल लग रही थी, लेकिन अंपायर ने इसे नो-बॉल नहीं दिया था। इसके बाद आखिरी तीन गेंदों पर दिल्ली कुछ खास नहीं कर पाई और मैच हार गई।

 

राजस्थान रॉयल्स की पारी

 

राजस्थान की पारी अकेले दो बल्लेबाजों ने संभाली और वो थे इनफॉर्म बैटर बटलर और देवदत्त पडिक्कल। दोनो ने ही खूब रन बटोरे और पहले विकेट के लिए 155 रन जोड़ दिए। बटलर ने जहा शतक बनाया फिर से वही देवदत्त पडिक्कल ने 54 रनों की शानदार पारी खेली बाकी जो बचा था वो राजस्थान के कप्तान ने पूरा कर दिया। संजू ने महज 19 गेंदों पर नाबाद 46 रन की बेहतरीन पारी खेली। इस दौरान उन्होंने 5 शानदार चौके और तीन गगनचुंबी छक्के लगाए। संजू सैमसन के इस पारी की बदौलत राजस्थान की टीम दो विकेट पर 222 रनों के विशाल स्कोर तक पहुंच सकी। इस सीजन में किसी भी टीम द्वारा बनाया गया ये सबसे बड़ा स्कोर है। इस साल जिस तरह से राजस्थान की टीम खेल रही है वो वाकई चौकाने वाला है क्योंकि पिछले साल भी कुछ यही टीम थी लेकिन अच्छा प्रर्दशन नही कर पाई थी। एक तरफ जब नो बॉल को लेकर हाईवोल्टेज ड्रामा हुआ तो उसमे राजस्थान के कप्तान भी कूद पड़े और उन्होंने ने ठीक ऋषभ पंत के उल्टा बयान दिया और कहा की अंपायर का फैसला जो भी था वो ठीक था। हम उस फैसले का सम्मान करते है वो नो बाल नहीं था।

 

दोनो टीम कुछ इस प्रकार से थी

 

दिल्ली कैपिटल्स : पृथ्वी शॉ, डेविड वॉर्नर, सरफराज खान, ऋषभ पंत (कप्तान/ विकेटकीपर), ललित यादव, रोवमैन पॉवेल, अक्षर पटेल, शार्दुल ठाकुर, कुलदीप यादव, मुस्तफिजुर रहमान और खलील अहमद।

राजस्थान रॉयल्स: जोस बटलर, देवदत्त पडिक्कल, संजू सैमसन (कप्तान/विकेटकीपर), शिमरॉन हेटमायर, करुण नायर, रियान पराग, रविचंद्रन अश्विन, ट्रेंट बोल्ट, ओबेड मैकॉय, प्रसिद्ध कृष्णा और युजवेंद्र चहल।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here