आखिरकार 2 हार के बाद भारतीय टीम को जीत मिल ही गई। विशाखापट्टनम में खेला गया भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीसरा टी 20 अंतराष्ट्रीय मैच में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 48 रनों से मात दे दी। इस सीरीज में दो हार के बाद भारत की ये पहली जीत है,और अफ्रीका से लगातार 7 मैच हारने के बाद भी ये पहली जीत है। आप अंदाजा लगा सकते है की साउथ अफ्रीका का कितना शानदार रिकॉर्ड रहा है भारत के खिलाफ। कल यानी मंगलवार को भारत ने अफ्रीका को 48 रनों से हारा कर सीरीज भी बचा ली, क्योंकि अगर कल का मैच हार जाते तो फिर ये सीरीज भारत हार जाता जो बहुत ही शर्मनाक बात होती क्योंकि भारत अपने देश में ही खेल रहा है। और अगर अफ्रीका हारा के चली जाती तो कही न कही शर्मनाक बात होती इस युवा टीम के लिए। लेकिन जिस तरह से भारत ने तीसरे टी 20 मैच में खेला है न वो काबिले तारीफ है। एक तरफ एक टीम बेफिक्र होकर सीरीज पर कब्जा करने उतरी थी और दूसरी तरफ भारतीय टीम सीरीज बचाने उतरी थी और पूरे प्रेशर में थी। लेकिन खिलाड़ियों ने जिस तरह से प्रेशर हैंडल किया वो वाकई में तारीफ के काबिल था। इस मैच में भी ऋषभ पंत टॉस हार गए और उन्हे पहले बैटिंग करने के लिए आमंत्रित किया गया। टीम की शुरुआत अच्छी रही और पहले विकेट के लिए 97 रन की साझेदारी हो गई। टीम इंडिया ने पूरे 20 ओवर में 179 रन बनाय 5 विकेट के नुकसान पर और 180 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी अफ्रीका की टीम 131 रन ही बना सकी और 48 रन से मैच हार गई।

 

भारत की पारी

 

टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत काफी अच्छी रही,और अच्छी की जरूरत भी थी क्योंकि ये मैच भारत के लिए करो या मरो का था। अगर ये मैच टीम हार जाती तो फिर ये सीरीज भी उसके हाथ से निकल जाता क्योंकि पहले 2 टी 20 हार चुके है इस लिए ये जीतना जरूरी था और हुआ भी वही। ईशान किशन और ऋतुराज ने जब खेलना शुरू किया तो रुकने का नाम ही नही लिया,एक तरफ से ऋतुराज प्रहार कर रहे थे तो एक तरफ ईशान किशन ने विकेट संभाल रखा था। दोनो ने इतनी शानदार बैटिंग करी की दोनो के बीच शानदार 97 रनों की पार्टनरशिप देखने को मिला। इस पार्टनरशिप को महाराज ने तोड़ा ऋतुराज को आउट करके लेकिन उसके पहले ऋतुराज अपना काम कर चुके थे। उन्होंने आउट होने के पहले 35 गेंदों में 57 रन बनाय जिसमे 7 चौके और 2 छक्के शामिल थे। ऋतुराज के आउट होने के बाद बैटिंग करने उतरे श्रेयस अय्यर जो इस पूरे सीरीज में फॉर्म में दिखे है लेकिन वो इस मैच में ज्यादा कुछ नही कर पाय और 11 गेंदों में 14 रन बनाकर प्रिटोरिया के शिकार बने। उसके बाद भारतीय टीम कही न कही लड़खड़ाती नजर आई क्योंकि श्रेयस के जाने के बाद ईशान भी आउट हो गए लेकिन उन्होंने जाने से पहले अपना काम कर दिया। ईशान ने 35 गेंदों में 54 रनों की शानदार पारी खेली जिसमे 5 चौके और 2 छक्के शामिल थे। ईशान किशन लगातार अपने फॉर्म का परिचय दे रहे है,इस सीरीज में 3 मैचों में उनका दोहरा अर्धशतक था। ईशान के जाने के बाद कप्तान पंत आय और चले गए लेकिन अंत में हार्दिक पांड्या धुआधार बैटिंग करी। पांड्या ने 21 गेंदों में 31 रन तब ठोके जब विकेट गिर रहे थे और रन नही बन पा रहे थे। इस तरह से टीम इंडिया ने अपने 5 विकेट खो कर 180 रनो का लक्ष्य रखा साउथ अफ्रीका के सामने।

 

टीम इंडिया के गेंदबाजों ने अफ्रीका को रोका

 

दो जीत दर्ज करके शानदार फॉर्म में चल रही साउथ अफ्रीका के लिए ये लक्ष्य कोई बड़ा नहीं था क्योंकि इसी सीरीज में अफ्रीका ने 200+ को भी चेस किया हुआ है। लेकिन इस मैच में भारतीय गेंदबाजों ने अफ्रीका के बल्लेबाज़ों को रोक कर रखा। अफ्रीका की शुरुआत ही कुछ खास नहीं रही और 23 के स्कोर पर कप्तान खुद आउट होकर पवेलियन लौट गए। उसके बाद जल्दी ही हेंड्रिक्स भी आउट हो गए। इस सीरीज में अभी तक अफ्रीका के लिए हीरो साबित हुए दुसेन भी कुछ ज्यादा नही कर पाय और वो भी जल्दी ही आउट हो गए। इस मैच में भी लोगो की नजरे डेविड मिलर पर आ टिकी थी लेकिन इस मैच में मिलर भी कुछ नही कर पाय और 5 गेंदों में 3 रन बनाकर आउट हो गए। उधर अगर भारतीय गेंदबाजों की बात की जाए तो स्पिनर ने मैच में जान डाल दिया था। चहल और अक्षर में अच्छी गेंदबाजी की, चहल ने अपने 4 ओवर में 20 रन देकर 3 विकेट निकाले वही अक्षर ने अपने 4 ओवर में 28 रन देकर एक बहुमूल्य विकेट निकाला। वही हर्षल पटेल ने तो अफ्रीका की कमर ही तोड़ दी, उन्होंने 3.1 ओवर में 25 रन देकर 4 विकेट झटके। वही पिछले मैच के हीरो रहे भुनेश्वर कुमार ने भी अच्छी गेंदबाजी की,उन्होंने 4 ओवर में मात्र 21 रन खर्च करके एक विकेट लिए। इस तरह की गेंदबाजी के आगे घुटने टेकते नजर आई साउथ अफ्रीका की टीम।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here