इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले आखरी और फाइनल टेस्ट के लिए टीम इंडिया का ऐलान कर दिया गया है। और उसमे कई ऐसे भी चेहरे है जो पिछले कुछ मैचों से टीम इंडिया से बाहर कर दिए गए थे लेकिन अब उनकी वापसी हुई है उसी में पहला नाम है टीम इंडिया के नय दीवार चेतेश्वर पुजारा का, पुजारा की 5 महीने बाद टीम इंडिया में वापसी हुई है, अभी हाल में ही पुजारा ने काउंटी क्रिकेट खेला था जिसमे उन्होंने अपने बल्ले से कमाल दिखाया था। देखा जाए तो पुजारा का आईपीएल में किसी टीम द्वारा न खरीदना ज्यादा भाग्यशाली रहा, क्योंकि वो पिछले सीजन चेन्नई सुपर किंग्स के हिस्सा थे तब उन्हे एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला था। और ये भी संभव था की अगर इस सीजन भी वो किसी टीम से खेलते तो शायद ही उनको मौका मिलता। तो कही न कही आईपीएल में पुजारा का ना बिकना उनके लिए वरदान साबित हुआ है। पिछले कुछ महीनों में पुजारा ने काउंटी क्रिकेट में जिस तरह का प्रदर्शन किया था, उसके बाद तो तय था उनका टीम में सलेक्शन होना। चेतेश्वर पुजारा ने काउंटी में ससेक्स के लिए दो दोहरे शतक और दो शतक समेत चार मैचों के सात पारियों में 717 रन बनाए थे। जो उनके फॉर्म को दर्शाता है की वो कितने प्रचंड फॉर्म में है। इस दौरान पुजारा का औसत 143.40 का रहा। इतना बढ़िया औसत के बाद टीम इंडिया में उनका आना तय था। चेतेश्वर पुजारा ने हर मैच में अच्छा खेल का प्रदर्शन किया है। पुजारा ने पहले मैच में ही डर्बीशायर के खिलाफ शानदार नाबाद 201 रनों की बेहतरीन पारी खेली। उसके बाद पुजारा ने यॉर्क शायर के खिलाफ शानदार शतक बनाया, उन्होंने 109 रनों की बेहतरीन पारी खेली फिर उन्होंने डरहम के खिलाफ फिर से दोहरा शतक लगा दिया और उन्होंने बेहतरीन 203 रन की शानदार पारी खेली। पुजारा यही नहीं रुके उन्होंने मिडलसेक्स के खिलाफ भी शतक जड़ दिया। उन्होंने इसी मैच की पहली पारी में उन्होंने 10 गेंद में 16 रन बनाए थे, लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने शानदार शतक लगा कर पहली पारी की विफलता पर पानी फेर दिया। अब इतना अच्छा खेलने के बाद अगर उनका टीम में सलेक्शन नही होता तो उनके साथ नाइंसाफी होती। काउंटी का फॉर्म देख कर सुनील गावस्कर ने भी पुजारा की तारीफ की थी,उन्होंने कहा था की पुजारा अच्छे फॉर्म में तो है ही बल्कि उनका खेलने का तरीका टीम इंडिया के काम आने वाला है, बल्कि वो गेंदबाजों को थका कर उनका मनोबल गिराते है।

 

पाकिस्तानी गेंदबाज शाहीन अफरीदी को काउंटी में धोया

 

2021 वर्ल्ड कप में भारतीय बैटर अगर किसी गेंदबाज से सबसे ज्यादा परेशान हुए थे तो वो थे पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी। अफरीदी ने विराट कोहली,रोहित शर्मा और केएल राहुल जैसे बल्लेबाजों को आउट किया था लेकिन यहां इंग्लिश काउंटी क्रिकेट में शाहीन अफरीदी की जम की धुनाई हो रही है। पुजारा शाहीन अफरीदी के गेंद पर क्या शानदार अपर कट से छक्के मारे। आपको बता दे की पाकिस्‍तान का यह गेंदबाज इंग्लिश काउंटी क्रिकेट में मिडलसेक्‍स का हिस्‍सा है।

 

 

खराब फॉर्म से जूझ रहे थे पुजारा, टीम इंडिया से भी हुए थे बाहर

 

खराब फॉर्म से जूझ रहे थे पुजारा लेकिन ब्रिटिश लीग में क्या गजब का प्रदर्शन किया है। भारतीय टीम में वापसी की राह देख रहे पुजारा का पांच पारियों में यह तीसरा बेहतरीन शतक है। उन्होंने इस दौरान ससेक्स के साथ अपने पदार्पण मैच में छह और नाबाद 201 रन बनाये थे जिससे टीम ने डर्बीशर के खिलाफ फॉलोऑन मिलने के बाद मैच ड्रॉ कराया था। अगर शायद पुजारा न होते तो वो मैच उनकी टीम हार जाती लेकिन पूजा संकटमोचन बन कर आए और फॉलोऑन मिलने के बाद भी अपनी टीम को बचा लिया। यही खासियत पुजारा की रही है जब वो एक बार क्रीज पर टिक जाते है तो फिर उनको आउट करना मुश्किल हो जाता है। पुजारा यही नहीं रुकते है उन्होंने इसके बाद वॉस्टरशर के खिलाफ 109 और 12 रन की पारियां खेली थी जो दर्शाता है की वो किस फॉर्म में चल रहे है,इंग्लैड की पिचों पर जाकर ऐसा खेलना फॉर्म को दर्शाता है। लेकिन इस मैच में उनकी टीम को 34 रन से हार का सामना करना पड़ा था। दक्षिण अफ्रीका दौरे के बाद भारतीय टीम से बाहर हुए पुजारा इस शानदार लय के कारण इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट श्रृंखला के आखिरी मैच के लिए टीम में वापसी कर सकते हैं। बल्कि उनका टीम में सिलेक्ट होना तय माना जा रहा है।

 

पिता ने दिया था बेटे के फॉर्म पर बयान

 

चेतेश्वर पुजारा के पिता और कोच अरविंद पुजारा का अपने बेटे को लेकर बयान आया है। पुजारा के पिता का मानना है कि यह भारतीय टेस्ट विशेषज्ञ बल्लेबाज नियमित मैच अभ्यास मिल पाने के कारण मौजूदा काउंटी चैंपियनशिप में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। उनके पिता ने कहा कि चेतेश्वर इससे पहले कोविड-19 से जुड़ी पाबंदियों के कारण लगातार मैच अभ्यास नहीं कर पा रहा था। जो उनके फॉर्म के लिए अच्छा नही था। भारत के लिए अभी तक 95 टेस्ट खेलने वाले अनुभवी चेतेश्वर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उसकी सरजमीं पर टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया था। और ये पहली बार भी था जब पुजारा को उनके फॉर्म को लेकर बाहर किया गया था। चेतेश्वर पूजा का फॉर्म निरंतर गिरता जा रहा था जिसका कारण रहा की उनको श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। राहुल द्रविड़ के जाने के बाद अगर सबसे ज्यादा किसी पे भरोसा रहता है तो वो पुजारा ही है। लेकिन उनका फॉर्म उनका साथ नही दे रहा था जिसके वजह से वो टीम से बाहर भी हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here