रविवार को पूरे प्रदेश में टीईटी 2021 की परीक्षा दो पालियों में होनी थी। पहले पाली में पूरे प्रदेश में 10 से 12:30 बजे तक परीक्षा होनी थी जिसमे 2554 केंद्र पर प्राथमिक स्तर की परीक्षा का आयोजन किया गया था। और वही द्वितीय पाली में 2:30 बजे से 5 तक कुल 1754 केंद्रों पर उच्च प्राथमिक स्तर पर परीक्षा होनी थी। 2018 और 2019 से भी ज्यादा संख्या में इस बार प्रतिभागी इस परीक्षा में भाग लेने जा रहे थे तकरीबन 13.52 लाख प्राथमिक स्तर के और वही 8.93 लाख उच्च स्तर के लिए कुल अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था। अगर बात करे 2018 की तो कुल 11 लाख अभ्यर्थी और 2019 में करीब 16 लाख अभ्यर्थियों ने परीक्षा में भाग लिया था। ये पहली बार था की इतनी बड़ी संख्या में टीईटी की परीक्षा में अभ्यर्थी भाग लेने जा रहे थे।

देर रात मिली पेपर लीक होने की खबर|

देर रात पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगातार पेपर के वायरल होने की खबर यूपी एसटीएफ को मिली। और पहले से ही सक्रिय एसटीएफ ने इस मामले की जानकारी बेसिक शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों से साझा की और वायरल हो रहे प्रश्नपत्र की सत्यता को जानने के लिए जांच किया और पता चला ये वही प्रश्नपत्र है जिसकी परीक्षा सुबह होनी है। अधिकारियों के पुष्टि के बाद तत्काल प्रभाव से एसटीएफ ने जगह जगह पर छापेमारी शुरू की और सुबह होते – होते दर्जनों सटलरो को हिरासत में ले लिया और इस मामले के तह तक जाने के लिए पूछताछ जारी रखी और लगातार कुल 29 लोगो को गिरफ्तार किया गया।

सूबे के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा NSA के तहत होगी कार्यवाई।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा की जिसने भी ये किया है वो सुन ले उन्हें किसी भी हाल में छोड़ा नही जायेगा उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के खिलाफ मुकदमा कर उनकी सारी संपत्ति को जब्त किया जाएगा और यही नही चेताया की कोई कितना भी बड़ा क्यों न हो कितना भी ताकतवर क्यों न हो उसके घरों पर बुलडोजर चलना तय है। ऐसे लोगों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट और रासुका के तहत कार्रवाई होगी। ऐसे लोगों की संपत्ति भी जब्त की जाएगी। मामले में अब तक 29 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वही अभ्यर्थियों के लिए सीएम योगी के कहा की सारे छात्र छात्राओं को शकुशल उन्हें उनके घर पहुंचाया जाए और जल्द से जल्द अगले महीने तक फिर से परीक्षा कराई जाएगी और कोई भी शुल्क नहीं वसूला जाएगा अर्थात उनके आने और जाने के लिए उत्तर प्रदेश परिवहन उनके प्रवेश पत्र को देख कर उन्हे फ्री में सफर करने की अनुमति रहेगी।

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने दी रद्द होने की सूचना।

तड़के ही दर्जनों आरोपियों के गिरफ्तार होने के बाद और लगातार व्हाट्स ऐप और अन्य सोशल मीडिया के जरिए पेपर वायरल की खबर थी लगभग ज्यादातर के मोबाइल फोन पर वायरल पेपर पहुंच चुका था जिसके पश्चात ये निर्णय लिया गया की प्रथम और द्वितीय पाली के दोनो परीक्षाओं को रद्द किया जाए और वही जानकारी दी गई की एक माह के भीतर ही फिर से परीक्षा कराई जाएगी जिसके लिए कोई अलग से परीक्षार्थियों से शुल्क नहीं लिया जायेगा और हर संभव मदद की जायेगी।

गिरफ्तार किए गए आरोपी।

लखनऊ से चार लोगों को गिरफ्तार किया गया इसमें झांसी निवासी अनुराग देश व चंदू वर्मा, अम्बेडकर नगर निवासी फौजदार वर्मा, अयोध्या निवासी कौशलेंद्र प्रताप शामिल किया गया है। कौशांबी से रोशन सिंह पटेल को गिरफ्तार किया गया है, उसके मोबाइल से हाथों से लिखा प्रश्न उत्तर मिला है। एसटीएफ की मेरठ ईकाई ने तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है। शामली से मनीष, रवि और धर्मेंद्र को गिरफ्तार किया है। इनका अपना गैंग है। पांच लाख रुपये में इस गैंग ने पेपर खरीदे। 50 से 60  अभ्यर्थियों से 50-50 हजार रुपये लेकर उन्हें इस प्रश्नपत्र और उसके उत्तर को परीक्षा से पहले पढ़ाना और याद कराना था। गैंग के अन्य सदस्यों की शिनाख्त की जा रही है।

अयोध्या से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। संदीप वर्मा और रमेश गुप्ता को अयोध्या से गिरफ्तार किया गया है। संदीप सुल्तानपुर का रहने वाला है और साल्वर है। संदीप उमानंद गुप्ता के स्थान पर गुरुनानक एकेडमी महिला पीजी कालेज में परीक्षा देने पहुंचा था। इसी कालेज के बाहर से रमेश को गिरफ्तार किया गया है। रमेश नकल माफिया गिरोह का सरगना है। वह मूल रूप से अम्बेडकरनगर का रहने वाला है।

प्रयागराज से 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इनके पास से प्रश्नपत्र की फोटो कॉपी बरामद हुई है। इसमें सहायक अध्यापक भी शामिल है। इसके अलावा साल्वर और अभ्यर्थियों को भी गिरफ्तार किया गया है। प्राथमिक विद्यालय करिया खुर्द शंकरगढ़, प्रयागराज के सहायक अध्यापक सत्य प्रकाश सिंह को गिरफ्तार किया गया है उसके व्हाट्स एप पर साल्व किया हुआ पेपर बरामद हुआ है। इसके अलावा साल्वर गैंग का मुख्य सरगना प्रतापगढ़ निवासी राजेंद्र पटेल, बिहार से साल्वर उपलब्ध कराने वाला गया, बिहार निवासी सन्नी सिंह, साल्वर टिंकू, शीतल, धनंनजय कुमार, शिव दयाल, कौनेन रजा और प्रतापगढ़ का रहने वाला नीरज शुक्ला शामिल हैं। सोनभद्र का रहने वाला साल्वर अनुराग, चित्रकूट का रहने वाला अभ्यर्थी अभिषेक सिंह शामिल है। इसके अलावा प्रयागराज के जार्ज टाउन से साल्वर गैंग के सरगना चर्तुभुज सिंह, साल्वर संजय सिंह ब्रह्मा शंकर सिंह, सुनील कुमार सिंह और अजय कुमार सिंह शामिल हैं। सभी प्रयागराज के रहने वाले हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here