दुनिया भर अभी कोरोना और मंकीपॉक्स के खतरे के से जुझ ही रहा था कि इसी बीच टोमैटो फीवर यानी हैंड फुट एंड माउथ डिजीज का भी खतरा तेजी से बढ़ने लगा है । चिंता की बात यह है कि शहर के त्वचा रोग विशेषज्ञ के यहां ऐसे मामले भी आने शुरू हो गए है । इसलिए इससे बचाव के लिए भी लोगों को सचेत किया जा रहा है। तो आइए जानते हैं आखिर टोमैटो फीवर क्या है, इससे बचने के उपाय और इसके मुख्य लक्षण –

साल 2020 से ही दुनिया भर में हर एक व्यक्ति कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है । कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप अभी भी नहीं थमा है , अभी भी दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो इस महामारी से जूझ ही रहे हैं । इसी बीच नए वायरस मंकीपॉक्स के दस्तक देने के बाद टोमैटो फीवर ने भी दस्तक दे दी है ।

 

टोमैटो फीवर क्या है ?

टोमैटो फीवर  एक वायरल बीमारी है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर के कई हिस्सों पर छाले/चकत्ते, त्वचा में जलन, और बच्चों में निर्जलीकरण की समस्याएँ होती है । यह वायरल बीमारी ज्यादातर पांच साल से कम उम्र के बच्चों में होती है । चूँकि, इस दौरान बच्चे के शरीर में बने छाले, चकत्ते, या फफोले और बच्चे का शरीर टमाटर की तरह लाल हो जाता है । इस कारण इस वायरल बुखार का नाम टमाटर फ्लू यानि टोमैटो फीवर रखा गया गया है । टोमैटो फीवर होने पर रोगी के शरीर पर टमाटर जैसे लाल रंग के फफोले या निशान हो जाते है । इसी कारण से इस टोमैटो फीवर संक्रमण का नाम टोमैटो फीवर रखा गया है ।

 

टोमैटो फीवर का मुख्य कारण

टोमैटो फीवर  हैंड, फुट एंड माउथ डिजीज बेहद खतरनाक इंफेक्शन होता है , जो एंटरो वायरस जिनस के कारण होता है । इसके अलावा यह संक्रमित व्यक्ति के सलाइवा, मल या सांस के जरिए भी फैल सकता है ।

 

टोमैटो फीवर संपर्क में आने से फैलता है

टोमैटो फीवर पर विशेषज्ञों का कहना है कि यह संक्रमण गंभीर नहीं होता , इसलिए लक्षण सामने आने पर समय बर्बाद किए बिना डॉक्टर की सलाह से इलाज शुरू कर देना चाहिए । मरीज के संपर्क में आने के दौरान बचाव के मानकों का पालन सुनिश्चित होना बेहद जरूरी है क्योंकि संपर्क में आने वाले व्यक्ति में बहुत ही तेजी से फैलता है ।

 

टोमैटो फीवर के मुख्य लक्षण

  • टोमैटो फीवर में तेज बुखार, थकावट महसूस करते हैं ।
  • टोमैटो फीवर में भूख न लगना, हाथ-पैर के तलवे और मुंह के अंदर लाल दाने, लालिमा, खुजली और जलन आदि लक्षण पाए जाते हैं ।
  • टोमैटो फीवर में हथेली और तलवे बुरी तरह से प्रभावित होना, चिड़चिड़ापन, मुंह में लंबे समय तक छाले होना आदि लक्षण दिखाई देते है ।

 

टोमैटो फीवर के लक्षण पर विशेषज्ञों की राय

टोमैटो फीवर के दो मामले आ चुके है । इसमें जन्म से पांच साल के बच्चों में तलवे, हथेली व मुंह में छाले पड़ जाते है । ऐसे में उन बच्चों को आठ से 10 दिन के लिए आइसोलेट करना बेहद जरूरी होता है ।

वहीं कुछ विशेषज्ञों का मानना है इस संक्रमण में गंभीर इलाज की जरूरत नहीं होती । चंद दवाओं का डोज सही समय पर देने से संक्रमण पर काबू पाया जा सकता है । ऐसे में जरूरी है कि लक्षण दिखने पर माता-पिता झाड़-फूंक या बिना डॉक्टर की सलाह के इलाज कराने से बचें अन्यथा स्थिति गंभीर हो सकती है । वहीं खुद के बचाव की भी पूरी व्यवस्था रखें । संक्रमित बच्चे के संपर्क में आने के दौरान मास्क और पीपीई किट जरूर पहने ।

 टोमैटो फीवर और मंकीपॉक्स में अंतर

टोमैटो फीवर  हैंड, फुट एंड माउथ डिजीज बेहद खतरनाक इंफेक्शन होता है , जो एंटरो वायरस जिनस के कारण होता है । वही मंकीपॉक्स पॉक्सविरिडे परिवार में ऑर्थोपॉक्सवायरस जीनस से जुड़ा है । मंकीपॉक्स, आमतौर पर मध्य और पश्चिम अफ्रीका में जंगली जानवरों के बीच फैलने और प्रसारित होने वाली बीमारी है । यह मनुष्यों में तब फैलती है जब वे संक्रमित जानवरों के संपर्क में आते है । इसके अलावा, कोविड-19 में आरएनऐ नामक आनुवंशिक सामग्री का सिंगल स्ट्रेन्ड होता है । वहीं, मंकीपॉक्स वायरस डीएनए में दोहरे-असहाय आनुवंशिक कोड को वहन करता है ।

इस बीमारी का नाम मंकीपॉक्स साल 1958 में रखा गया था ।जब इस वायरस का बंदरों की एक कॉलोनी में पता चला था , जिसका उपयोग रिसर्च के लिए किया जाता था । मंकीपॉक्स वायरस एक ऐसी बीमारी है , जो जानवरों से इंसानों में फैलती है और इंसान से इंसान में भी फैल सकती है । डब्ल्यूएचओ के अनुसार, मानव-से-मानव में फैल सकता है इसलिए इसके लक्षणों को देखते हुए 21 दिनों में मरीज के संपर्क में आए लोगों की तुरंत पहचान कर उन्हें आइसोलेट करना होगा ।

टोमैटो फीवर बचाव के उपाय

 

  1. टोमैटो फीवर नियमित रूप से हाथ धोते रहने से वायरस के संपर्क में आने का खतरा कम हो जाता है ।
  2. टोमैटो फीवर बच्चों को हाथ धोना सिखाएं या सैनिटाइजर से हाथ साफ करने के बारे में बताए ।
  3. टोमैटो फीवर अगर बच्चों को संक्रमण हो जाए तो देखभाल के दौरान अभिभावक अपने बचाव का पूरा ख्याल रखें। संपर्क में आने पर मास्क लगाकर रखें और बार-बार हाथ धोएं ।
  4. किसी भी संक्रमण या बीमारी से जल्द ठीक होने के लिए हेल्दी और पौष्टिक आहार को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए । ऐसे में अगर कोई मरीज मंकीपॉक्स से संक्रमित है तो उसे प्रोटीन, विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर चीजों का सेवन करना चाहिए ।
  5. यह बीमारी संक्रमण से फैलती है, इसलिए संतुलित आहार के साथ ही खानपान में स्वच्छता का भी खास ध्यान रखना चाहिए ।

टोमैटो फीवर

टोमैटो फीवर को लेकर मुख्य जानकारियां

  • टोमैटो फीवर अधिकतर पांच साल से कम आयु के बच्चों में होता है ।
  •  टोमैटो फीवर एक माइल्ड कंडीशन होती है जो कुछ दिनों में अपने आप खत्म हो जाती है ।
  •   टोमैटो फीवर स्कूल या क्रैच आदि में होने का खतरा अधिक होता है ।
  • टोमैटो फीवर आमतौर पर एक बार रोग हो जाने के बाद बच्चों के अंदर उससे लड़ने की क्षमता आ जाती है ।
  • टोमैटो फीवर  कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले किसी भी आयु के लोगों को इसके होने का खतरा रहता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here